जनदर्शन: मुख्यमंत्री ने सुनीं आम जनता की समस्याएं, लिमऊटोला में सिंचाई जलाशय के लिए होगा सर्वे

०० मुख्यमंत्री से चर्चा के बाद दैनिक वेतन भोगियों की हड़ताल समाप्त
०० लगभग 57 लाख रुपए की लागत के 13 निर्माण कार्यों की स्वीकृति
०० गंभीर बीमारियों से पीड़ित 32 मरीजों को मिलेगी संजीवनी कोष से सहायता

रायपर| मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने आज आम जनता से मुलाकात के साप्ताहिक कार्यक्रम जनदर्शन में आम जनता की समस्याएं सुनीं। प्रदेश के विभिन्न जिलों से आये ग्रामीणों, विभिन्न प्रतिनिधि मण्डलों और जनप्रतिनिधियों ने मुख्यमंत्री से मुलाकात करके उन्हें अपनी समस्याएं बतायीं। मुख्यमंत्री ने संबंधित अधिकारियों को समस्याओं के निराकरण के लिए आवश्यक निर्देश दिए। राजनांदगांव जिले के खैरागढ़ विकासखण्ड की ग्राम पंचायत गातापार जंगल के ग्राम लिमऊटोला से आये ग्रामीणों के प्रतिनिधि मण्डल ने मुख्यमंत्री को आवेदन देकर गांव के भदरी खोल नाला पर सिंचाई जलाशय का निर्माण कराने का आग्रह किया। प्रतिनिधि मण्डल ने मुख्यमंत्री को बताया कि वे लोग पिछले 15-20 वर्षों से इस जलाशय के निर्माण की मांग कर रहे हैं। यदि इस नाले पर जलाशय का निर्माण होता है, तो ग्राम पंचायत गातापार सहित नवागांव, लखना, चंगुर्दा और बैगाटोला ग्राम पंचायत के विभिन्न गांवों में लगभग दो हजार एकड़ में सिंचाई सुविधा उपलब्ध होगी और लगभग दो हजार किसान लाभान्वित होंगे। मुख्यमंत्री ने सहानुभूतिपूर्वक प्रतिनिधि मण्डल की बातें सुनी। उन्होंने जल संसाधन विभाग के सचिव को प्रतिनिधि मण्डल के आवेदन का परीक्षण कर आवश्यक कार्रवाई के निर्देश दिए हैं।
मुख्यमंत्री से आज 762 लोगों ने मुलाकात कर उन्हें अपनी समस्याएं बतायीं। इनमें से 537 लोगों ने अपनी व्यक्तिगत समस्याओं और 32 प्रतिनिधि मण्डलों में 225 लोगों ने विभिन्न सार्वजनिक समस्याओं के संबंध में आवेदन दिए। मुख्यमंत्री से सर्व विभागीय दैनिक वेतनभोगी कर्मचारी संघ के प्रतिनिधि मण्डल ने मुलाकात कर दैनिक वेतनभोगी कर्मचारियों को नियमित करने का आग्रह किया और इस संबंध में उन्हें विज्ञापन भी सौंपा। मुख्यमंत्री से चर्चा के बाद आठ अगस्त से हड़ताल पर दैनिक वेतनभोगियों ने हड़ताल समाप्त करने की घोषणा की। मुख्यमंत्री ने मुख्य सचिव को प्रतिनिधि मंडल के आवेदन का परीक्षण कर आवश्यक कार्रवाई के निर्देश जारी किए हैं। प्रतिनिधि मंडल में भारतीय मजदूर संघ के श्री वीरेन्द्र नामदेव सहित सर्वश्री डी.एस. दशमेर, बजरंग मिश्रा, प्रमोद देवांगन, दीपक दशमेर, श्रीमती आरती सिंह और कुमारी मोनिका गांगुली शामिल थीं। गरियाबंद जिले के ग्राम भैंसातरा से आए कमार आदिवासियों के प्रतिनिधि मंडल ने गांव में विद्युत पोल विस्तार और सिंचाई नलकूपों के लिए बिजली कनेक्शन प्रदान करने का आग्रह करते हुए मुख्यमंत्री को ज्ञापन सौंपा। मुख्यमंत्री ने छत्तीसगढ़ विद्युत वितरण कंपनी के प्रबंध संचालक को प्रतिनिधि मंडल के आवेदन पर परीक्षण कर आवश्यक कार्रवाई के निर्देश जारी किए हैं। शासकीय मुकुटधर पाण्डेय महाविद्यालय, कोरबा की जनभागीदारी समिति के प्रतिनिधि मंडल ने मुख्यमंत्री से मिलकर महाविद्यालय में अहाता निर्माण का आग्रह किया। उनका आवेदन आवश्यक कार्रवाई के लिए कलेक्टर कोरबा को भेजा गया है। दुर्ग के शासकीय डॉ. वा.वा पाटनकर कन्या स्नातकोत्तर महाविद्यालय की छात्राओं के प्रतिनिधि मंडल ने विज्ञान संकाय की कक्षाएं महाविद्यालय के नये भवन में लगाने और छात्राओं की सुविधा के लिए सिटी बस का मार्ग महाविद्यालय होते हुए निर्धारित करने के संबंध में मुख्यमंत्री को ज्ञापन सौंपा। मुख्यमंत्री के निर्देश पर उनका आवेदन कलेक्टर दुर्ग को आवश्यक कार्रवाई के लिए भेजा गया है।

रायगढ़ जिले के खरसिया विकासखंड के ग्राम मैनापार से आयी जागृति महिला स्व-सहायता समूह की महिलाओं ने मुख्यमंत्री को बताया कि वे लोग टेंट का व्यवसाय प्रारंभ करना चाहते हैं। इसके लिए उन्होंने आर्थिक सहायता उपलब्ध कराने का आग्रह किया। मुख्यमंत्री ने कलेक्टर रायगढ़ को महिला स्व-सहायता समूह के आवेदन का परीक्षण कर सहायता राशि उपलब्ध कराने के निर्देश जारी किए हैं। कोरबा जिले के कटघोरा विकासखंड के ग्राम ढेलवाडीह से आए ग्रामीणों के प्रतिनिधि मंडल ने गांव के तालाबों का गहरीकरण और पचरी निर्माण कराने के संबंध में आवेदन सौंपा। उन्होंने मुख्यमंत्री को बताया कि गर्मियों में कुछ तालाब सूख जाते हैं। मुख्यमंत्री ने कलेक्टर कोरबा को आवेदन का परीक्षण कर आवश्यक कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। जशपुर जिले के बगीचा विकासखंड के ग्राम सरईपानी से आए ग्रामीणों के प्रतिनिधि मंडल ने गांव के मुड़ाटोली बस्ती से लालडांड मार्ग पर एक पुलिया का निर्माण कराने का आग्रह किया। ग्रामीणों ने बताया कि इस मार्ग पर बहुत ज्यादा कीचड़ होने की वजह से ग्रामीणों को लगभग तीन किलोमीटर की अतिरिक्त दूरी तय करनी पड़ती है। मुख्यमंत्री ने प्रतिनिधि मंडल की बातें सहानुभूतिपूर्वक सुनी और पुलिया निर्माण के लिए पांच लाख रूपए की मंजूरी प्रदान की।
मुख्यमंत्री ने विभिन्न प्रतिनिधि मंडलों और ग्रामीणों के आग्रह पर लगभग 57 लाख रूपए की लागत के 13 कार्यों की स्वीकृति प्रदान की। इन कार्यों में पुलिया निर्माण, सीमेंट कांक्रीट सड़क निर्माण के कार्य शामिल हैं। इस दौरान गंभीर बीमारियों से पीड़ित अनेक मरीजों ने इलाज के लिए आर्थिक सहायता  उपलब्ध कराने का आग्रह मुख्यमंत्री से किया । मुख्यमंत्री ने ऐसे 32 मरीजों को संजीवनी कोष से आर्थिक सहायता प्रदान करने की स्वीकृति दी। डॉ. सिंह के निर्देश पर 13 मरीजों को निःशुल्क इलाज के लिए राजधानी स्थित अम्बेडकर अस्पताल भेजा गया है। जनदर्शन में लगाए गए डायबेटिक रिसर्च सोसायटी के स्टॉल में 45 लोगों का रक्त परीक्षण कर मधुमेह की जांच की गई और डॉ. अम्बेडकर अस्पताल के स्टॉल पर 16 मरीजों का रक्त परीक्षण कर मधुमेह और सिकलिंग की जांच की गई।

 

error: Content is protected !!