छात्रसंघ चुनाव पर रोक, गुस्साए छात्रों ने किया सड़क जाम, पुलिस की लाठी से छात्रों के फूटे सिर  

 

रायपुर। राज्य के करीब 500 कॉलेजों में इस बार छात्रसंघ चुनाव पर रोक के चलते पं. रविशंकर विश्वविद्यालय कैम्पस में छात्र राजनीति बौखलाहट आ गई है। बुधवार को एनएसयूआई के कार्यकर्ताओं और सपोर्टर ने विश्वविद्यालय कैम्पस के पास जीई रोड को जाम कर दिया। करीब आधे घंटे तक जाम में वाहनों की लंबी कतारें लग गईं और लोग परेशान होते रहे। ऐसे में पुलिस ने लाठी भांजकर भीड़ को तितर-बितर कर दिया। पुलिस की लाठी से एक छात्र का सिर फूट गया जबकि कई घायल हो गए। सड़क पर पुलिस मुस्तैद हो गई और छात्र वहां से भाग खड़े हुए।

कॉलेज और यूनिवर्सिटी कैम्पस में छात्रसंघ चुनाव का रंग ही अलग होता है। कई बार तो विधान सभा इलेक्शन का रंग भी इनके सामने फीका पड़ जाता है। लाखों रुपए उड़ा दिए जाते हैं शक्ति प्रदर्शन का दौर चलता है।वहीं इस बार ये सब नहीं होगा। राज्य के करीब 500 कॉलेज में छात्रसंघ अध्यक्ष समेत अन्य पदाधिकारी मनोनित होंगे।मेरिटोरियस स्टूडेंट छात्रसंघ अध्यक्ष व अन्य पदाधिकारी बनेंगे। कुलपतियों की अनुशंसा पर उच्च शिक्षा विभाग ने यह निर्देश जारी किया है। छात्रसंघ गठन की पूरी प्रक्रिया 5 सितंबर तक पूरी की जाएगी।छात्रसंघ गठन को लेकर इस बार मनोनयन की ही चर्चा खूब थी। राज्य के विवि व कॉलेज इसके पक्ष में पहले से खड़े थे।उच्च शिक्षा विभाग भी मतदान के बजाय मनोनयन के पक्ष में था, लेकिन घोषणा बाकी थी। मंगलवार को इस संबंध में आधिकारिक घोषणा की गई। इसके साथ ही तीन साल से हो रहे छात्रसंघ चुनाव पर ब्रेक लग गया। अब कॉलेज व विवि दोनों जगहों पर छात्रसंघ मनोनयन से ही चुना जाएगा।डिपार्टमेंट के टॉपर को अध्यक्ष समेत अन्य पदाधिकारी बनने का मौका मिलेगा। सूत्रों ने बताया कि कुलपति इस बार चुनाव में पक्ष थे ही नहीं। ज्यादातर का मानना था कि इससे कॉलेज व विश्वविद्यालयों में माहौल खराब होता है। पढ़ने वाले छात्रों को इससे परेशानी होती है। इसके अलावा यहां छात्र संगठनों का दखल भी बढ़ता था।

 

 

error: Content is protected !!