गौ हत्या के विरोध में जनता कांग्रेस करेगी 26 अगस्त को सभी जिला व ब्लॉक मुख्यालय में धरना प्रदर्शन – जोगी 

०० स्वास्थ्य विभाग की जांच कमेटी से मामले की लीपापोती का प्रयास 

रायपुर। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ जे के संस्थापक अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी जी ने अंबेडकर अस्पताल में आक्सीजन की कमी से हुई चार बच्चों की मौत की जांच मामले में बनाई गई कमेटी संतोष जनक नहीं हैं। उन्होंने मांग उठाई है कि जांच के लिए दूसरी कमेटी बनाई जाये और दोषी लोगों के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की जाये। बता दें दो दिन पूर्व राजधानी के सबसे बड़े अंबेडकर अस्पताल में आक्सीजन की कमी के कारण चार बच्चों की मौत  हो गयी थी। पूर्व मुख्यमंत्री श्री जोगी ने इस घटना की कड़े शब्दों में निन्दा की है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में कभी नसबंदी कांड तो कभी अंखफोड़वा कांड करके स्वास्थ्य विभाग ने नए कीर्तिमान बनाये हैं। इस बार अंबेडकर अस्पताल में स्वास्थ्य विभाग ने बच्चों को मारकर एक और नया कीर्तिमन स्थापित कर लिया है।

गौसेवा आयोग के अध्यक्ष को बर्खास्त किया जाए :- पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी ने गायों की चारे पानी से हुई मौत और गौशालाओं को अनुदान दिए जाने में की जा रही अनियमितता का मामला सामने आने के बाद गौसवा आयोग के अध्यक्ष विशेश्वर पटेल को बर्खास्त कर उनके विरुद्ध अपराधिक मुकदमा चलाये जाने की मांग किया है। बुधवार को श्री जोगी ने कहा कि जिन गौशालाओं के संचालकों द्वारा कमीशन की राशि दे दी जाती है उन्हें अनुदान की राशि प्रदान कर दी जाती है। प्रदेश में कई ऐसी गौशालाएं हैं जिनके संचालकों द्वारा कमीशन न दिए जाने पर अनुदान की राशि  पिछले सात माह से नहीं दी गई। पूर्व मुख्यमंत्री ने गौसेवा आयोग के अध्यक्ष के साथ ही सदस्यों के विरुद्ध भी कार्रवाई किए जाने की मांग उठाई है।

गोचर भूमि को अवैध कब्जे से मुक्त कराए सरकार :- जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ जे के संस्थापक अध्यक्ष अजीत जोगी ने कहा कि गायों को चारे-पानी के अभाव में मौत से बचाने के लिए सरकार को तीन सूत्रीय सुझाव दिया है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में गोचर की जमीनों को कांग्रेस और भाजपा के बड़े पदाधिकारियों द्वारा कब्जा कर लिया गया है। सरकार सबसे पहले इन जमीनों को मुक्त कराये। गौशालाओं को अनुदान देने में की जा रही अनियमितता और पक्षपात की जांच कराकर ऐसी गतिविधि पर रोक लगाई जाये। उन्होंने गोचर भूमि पर कब्जा करने वालों पर निशाना साधा और कहा कि कांग्रेस में जिन लोगों ने गोचर की भूमि पर कब्जा किया है उसके बारे में उनके पार्टी के नेता विधान मिश्रा पूर्व में सरकार को जानकारी दे चुके हैं।

बर्खास्त पुलिस अधिकारियों की सूची में झलक रहा व्यक्ति विशेष का पूर्वाग्रह :- जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ जे के संस्थापक व पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी ने हाल ही में बर्खास्त किए गए पुलिस अधिकारियों के मुद्दे पर सवाल खड़ा किया है। श्री जोगी ने बुधवार को पत्रकारों से रूबरू होते हुए कहा कि शासकीय सेवा में पदस्थ अधिकारियों और कर्मचारियों का मध्यावधि मूल्यांकन किया जाना जरूरी है। इस मूल्यांकन में अगर वह शासकीय सेवा नियमावली के मानदंडों पर खरा नहीं उतरते हैं तो उनके खिलाफ कार्रवाई किया जाना भी आवश्यक है। पर गत दिनों छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा मध्यावधि मूल्यांकन के बाद जो सूची जारी की गई है उसे देखने से ऐसा लगता है कि किसी व्यक्ति विशेष ने पूर्वाग्रह से ग्रसित होकर यह सूची बनाई है। इस सूची में अधिकतर नाम आदिवासी, दलित और पिछड़े वर्ग के लोगों के हैं। इससे यह संदेश जा रहा है कि सबसे अधिक भ्रष्ट इन्हीं समाज के लोग हैं। उन्होंने राज्य सरकार से मांग किया है कि इस सूची का रिव्यू कराया जाय और निष्पक्ष लोगों से मूल्यांकन का कार्य कराया जाये।

सोनिया साथ तो लखमा क्यों कर रहे पोलावरम का विरोध :-  जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ जे के संस्थापक अध्यक्ष व छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी ने बस्तर के कांग्रेस विधायक कवासी लकमा के पोलावरम विरोध को नाटक बताया है। उन्होंने कहा  कि पोलावरम पर बांध बनवाया जाना देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का ड्रीम प्रॉजेक्ट है। प्रधानमंत्री ने इस राष्ट्रीय योजना में शामिल किया है। कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को पत्र लिखकर इस पर उनका आभार जताया है और बांध का निर्माण शीघ्र कराये जाने की मांग की है। ऐसे में सवाल है कि जिस पार्टी का राष्ट्रीय अध्यक्ष पोलावरम बांध का समर्थन कर रहा है तो उसी पार्टी का विधायक विरोध क्यों कर रहा है ?  उन्होंने कहा कि मीडिया के माध्यम से जानकारी मिली है कि कांग्रेस विधायक कवासी लकमा ने पोलावरम बांध का विरोध किया है। उन्होंने कहा कि पोलावरम बांध का निर्माण होने से छत्तीसगढ़ के 40 गांव के आदिवासी समुदाय के लोग बाढ़ की चपेट में आने के लिए मजबूर हो जाएंगे। श्री जोगी ने स्पष्ट किया कि कांग्रेस और भाजपा के नेताओं को अब पोलावरम बांध का विरोध करने का कोई नैतिक अधिकार नहीं है क्योंकि इन्हीं दोनों पार्टियों के शीर्ष नेता इसका समर्थन कर रहे हैं।

 छात्र संघ चुनाव न कराना राजनैतिक नई पौध को रोकने का प्रयास  :- जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ जे के संस्थापक अध्यक्ष व छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी ने कहा कि आज छत्तीसगढ़ के सभी पार्टियों के बड़े नेता छात्र राजनीति की उपज है । प्रदेश सरकार प्रजातान्त्रिक मूल्यों को नष्ट करना चाहती है इसलिए छात्रों के अधिकार को समाप्त करना चाहती है । हमारी छात्र शाखा छत्तीसगढ़ स्टूडेंट यूनियन इसके खिलाफ अपनी लड़ाई जारी रखेगी । इस मौके पर पार्टी के मीडिया विभाग के चेयरमैन  इकबाल अहमद रिजवी, प्रदेश प्रवक्ता  सुब्रत डे नितिन भंसाली भी उपस्थित थे ।

 

error: Content is protected !!