डूमरतराई के अगरबत्ती कारखाने में लगी आग, दमकल ने किया काबू

रायपुर| राजधानी के थोक बाजार डूमरतराई के एक अगरबत्ती कारखाने में आग लगने से खलबली मच गई है जैसे ही फैक्ट्री में आग लगी लोगों की चीख-पुकार मच गई। मामले की सूचना पर एसडीआरएफ और नगर सेना के जवान मौके पर पहुंचकर आग बुझाने का प्रयास करने लगे। फायर ब्रिगेड की दमकल टीम भी मौके पर पहुंच गई। लगभग 4 घंटे की मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया गया।

आग अगरबत्ती फैक्ट्री तीन गोदामों में लगी थी आग सुबह 6 बजे शार्टसर्किट से लगी। इस आगजनी से लाखों का सामान जलकर खाक हो गया है। हालंाकि इस आगजनी में किसी प्रकार की कोई अप्रिय घटना नहीं हुई। पुलिस ने घटना की रिपोर्ट दर्ज कर मामले को विवेचना में लिया है। यदि एसडीआरएफ की टीम मौके पर पहुंचकर आग पर काबू नहीं पाई होती तो आग पूरे बाजार में लग सकती थी। क्योंकि डूमरतराई थोक बाजार है। ऐसे में अन्य व्यापारियों के दुकानों में आग लगने पर घटना और भी भयावह हो सकती थी।गौरतलब है कि 25 अप्रैल को शहर के मेट्रो होटल में आग लगी थी। काफी जद्दोजहद के बाद उस पर काबू पाया जा सका 26 अप्रैल को होटल लालबाग के डायनिंग हाल में आग लगने से गेस्टों और अन्य लोगों ने किसी तरह से कमरे से कूंदकर अपनी जान बचाई थी। यहां आग इतनी भीषण लगी थी कि दमकल की 8 गाडिय़ां बुलानी पड़ी तब जाकर उस पर काबू पाया जा सका। इसी दिन दोपहर में सिमरन सिटी के खाली पड़े प्लॉट में भी आग लग गई। इससे पूरे कॉलोनी में आग लगने का अंदेशा था, लेकिन वहां के रहवासियों की जागरुकता से समय रहते ही दमकल को सूचना देकर आग पर काबू पा लिया गया। 27 अप्रैल को लोधीपारा चौक स्थित निरामय हॉस्पिटल में आग लगने से खलबली मच गई। अस्पताल के कमज़्चारी और मरीजों ने किसी तरह से जान बचाई। सूचना देन के काफी समय बाद निगम की फायर ब्रिगेड टीम पहुंची। हॉस्पिटल में आग लगने की सूचना जैसे ही मरीजों और उनके परिजनों को मिली। उनमें दहशत फैल गया। आनन-फानन में मरीजों के परिजन अपने परिचितों का हाल जानने हॉस्पिटल पहुंचने लगे। इसी दिन दोपहर में सोना भवन के खाली पड़े प्लॉट में आग लगी थी। दमकल के पहुंचने पर उस पर काबू पाया जा सका। 28 अप्रैल को नया रायपुर सेक्टर-2 में अंडर ग्राउंड के लिए बिछाई गई प्लास्टिक पाइप में आग लग गई। मौके पर दमकल की 2 गाडिय़ां बुलाई गईं। इस दिन छेरीखेड़ी स्थित पेट्रोल पंप के पास आग लगने से एक व्यक्ति झुलस गया। 29 अप्रैल को अवंति विहार स्थित सेंट जेवियसज़् स्कूल परिसर में खड़े पांच वाहनों में आग लगने से वे जलकर खाक हो गए। इससे लाखों का नुकसान हुआ। 30 अप्रैल को खम्हारडीह के सिलेंडर के फटने से आग लग गई। हालंाकि किसी प्रकार का कोई नुकसान नहीं हुआ। 15 मई को भनपुरी के पेंट फैक्ट्री में आग लगने से ३ लोगों की मौत हुई थी और ४ लोग ंगंभीर रूप से घायल थे।17 मई को पंडरी के महालक्ष्मी कपड़ा मार्केट में आग में आग लगने से दो करोड़ की साडिय़ां जलकर खाक हो गई।

error: Content is protected !!