अम्बेडकर अस्पताल में बच्चों की मौत,भूपेश ने माँगा स्वास्थ्य मंत्री से इस्तीफा

रायपुर। प्रदेश के सबसे बड़े शासकीय चिकित्सालय अम्बेडकर में ऑक्सीजन की सप्लाई बाधित होने से 3 बच्चों की मौत पर प्रदेश की सियासत गरमा गई है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल ने इसे अक्षम्य अपराध कहा है। उन्होंने इस मामले में जवाबदेही तय कर दोषियों पर कड़ी कार्रवाई और राज्य के स्वस्थ्य मंत्री से इस्तीफे की मांग की है।
प्रदेश कांग्रेस मीडिया सचिव सुशील आनंद शुक्ला ने मामले में विज्ञप्ति जारी की । जिसमें प्रदेश अध्यक्ष की और से कहा गया है कि लोग बड़े भरोसे और विश्वास से अपने बच्चों को अस्पताल ले कर आए थे ताकि इन बच्चों को बेहतर इलाज से लंबी जिंदगी मिल सके। इलाज की सुविधा नहीं मिली, अभिभावकों का विश्वास तोड़ा गया है। गोरखपुर के मेडिकल कालेज में ऑक्सीजन की कमी से बड़ी संख्या में बच्चों की मौत के बाद पूरे देश मे हाहाकार मच गया था। इस दुर्भाग्यजनक घटना से सबक ले कर छत्तीसगढ़ के इस सबसे बड़े अस्पताल की व्यवस्थाओं और ऑक्सीजन सप्लाई की समीक्षा करने की जरूरत क्यों नही समझी गयी? सरकार इस प्रकार के दुर्भाग्य पूर्ण हादसे का इंतजार कर रही थी? अम्बेडकर अस्पताल राज्य के गरीबों के इलाज का सबसे बड़ा सहारा है यहां की चिकित्सकीय सुविधाओं को चाक- चौबंद रखना तथा मरीजो को बेहतर इलाज दिलाना सरकार की जवाबदारी है। उन्होंने कहा कि, इस प्रकार की लापरवाही के कारण होने वाले हादसों से गरीबों का सरकारी अस्पतालों से भरोसा उठ जाता है। स्वास्थ्य बजट पर सैकड़ों करोड़ रुपए खर्च करने के बाद जब सरकार राजधानी में स्थित सबसे बड़े सरकारी अस्पताल में सुविधाएं नहीं जुटा पा रही है तब प्रदेश के दूरस्थ क्षेत्रों के जिला चिकित्सालयों स्वास्थ्य केंद्रों, उवस्वास्थ केन्द्रों में क्या हालात होती होगी इसका सहज अनुमान लगाया जा सकता है।

 

error: Content is protected !!