धमधा गौशाला संचालक भाजपा नेता को बचाने की कोशिश में रमन सरकार: कांग्रेस

०० गौहत्यारों को फांसी पर लटकाने की बात कहने वाले सीएम नरमाई क्यों दिखा रहे: ज्ञानेश

 ०० मुख्यमंत्री बताएं, दुर्गुकोंदल के कर्रामाड़ गौशाला के दोषी, रायगढ़ के चक्रधर गौशाला और अब धमधा गौशाला में गायों की मौत के दोषियों को कब लटकाएंगे फांसी पर

 रायपुर। कांग्रेस ने कहा है कि छत्तीसगढ़ की गौशालाओं में लगातार गायों की मौत हो रही है और राज्य की भाजपा सरकार महज खानापूर्ति में जुटी हुई है। प्रदेश कांग्रेस के मीडिया चेयरमैन ज्ञानेश शर्मा ने जारी प्रेस विज्ञप्ति में कहा है कि मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह यह कहते हुए राष्ट्रीय स्तर पर सुर्खियां तो बटोर लेते हैं कि छत्तीसगढ़ में गौहत्यारों को फांसी पर लटका देंगे, लेकिन जब कार्रवाई करने की बारी आती है तो मुख्यमंत्री महज जांच की बयानबाजी पर उतर आते हैं।

उन्होंने कहा कि दुर्ग जिले के धमधा में करीब 250 गायों की मौत, इससे पहले जुलाई में ही रायगढ़ जिले में स्थित चक्रधर गौशाला में 15 गायों की मौत और उससे भी पूर्व दुर्गुकोंदल के कर्रामाड़ में स्थित गौशाला में अगस्त 2016 में करीब 150 गायों की मौत, इन सब मामलों को देखकर साफ जाहिर होता है कि गौमाता को लेकर भाजपा सरकारों की कथनी और करनी में फर्क है। भाजपा के लिए गौमाता महज एक मुद्दा है जिसे लेकर वह जनता की भावनाओं से खेलती आई है।शर्मा ने आगे कहा कि मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने इसी वर्ष गौहत्यारों को फांसी पर लटका देंगे कहते हुए राष्ट्रीय स्तर पर सुर्खियां जरुर बटोर ली थी, लेकिन कर्रामाड़ गौशाला के दोषियों को क्या फांसी पर लटकाया गया, या चक्रधर गौशाला के आरोपियों अथवा धमधा गौशाला के दोषी को फांसी पर लटकाया जाएगा। यह बात मुख्यमंत्री को बताना चाहिए, लेकिन वे तो महज नए सिरे से सभी गौशालाओं के जांच के आदेश देने में व्यस्त हैं। साफ जाहिर है कि धमधा गौशाला का संचालक चूंकि भाजपा नेता है, इसलिए उसे बचाने ऐसा आदेश दिया गया है। राज्य के अधिकांश गौशाला संचालक किसी न किसी मंत्री के करीबी हैं, इसलिए उन पर सीधे कार्रवाई करने के निर्देश कभी नहीं दिए जाते, भाजपा की रमन सरकार को यहां गौमाता से ज्यादा जरुरी ऐसे गौसंचालक भाजपा नेता लगते हैं। इसलिए उन पर महज दिखावे के लिए कार्रवाई की जाती है और मुख्यमंत्री महज सुर्खियां बटोरने के लिए फांसी पर लटका देंगे जैसा बयान देते हैं।उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री महज जुबानी जमा खर्च करने में माहिर हैं, कहे हुए पर अमल करने में नहीं, यही छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह की पहचान बन चुकी है। चाहे वह भ्रष्टाचार पर नो टालरेंस की नीति हो, किसानों को धान-बोनस देने की बात हो या फिर गौशालाओं में गायों की मौत के दोषियों पर कार्रवाई की बात हो।शर्मा ने कहा कि कांग्रेस गौमाता के साथ, जनता की भावनाओं के साथ ऐसा खिलवाड़ नहीं होने देगी, इसका सड़क पर उतर कर विरोध करेगी और जनता के साथ कदम से कदम मिलाते हुए ऐसे दोषियों पर कार्रवाई कर के ही रहेगी।

 

error: Content is protected !!