प्रदेश बेसबाल संघ के अध्यक्ष बने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शैलेष पाण्डेय

बिलासपुर। प्रदेश बेसबाल संघ के नए अध्यक्ष का दायित्व सौंपने के बाद से काम की शुरुआत कर दी गई है। इस खेल के साथ ऐसे कई खेल हैं, जिनका सफर आगे चुनौती भरा है।शुक्रवार को प्रदेश बेसबाल संघ ने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शैलेष पांडेय को अध्यक्ष पद का दायित्व सौंपा। इस दौरान होटल सेन्ट्रल पाइंट में प्रदेश के सभी जिलों के बेसबाल पदाधिकारियों की बैठक रखी गई, जिसमें श्री पांडेय को पदाधिकारियों ने अपनी परेशानी व्यक्त की। प्रेसवार्ता के दौरान बेसबाल के नवनियुक्त प्रदेश अध्यक्ष शैलेष पांडेय ने कहा कि संघ ने उन्हें बहुत बड़ा दायित्व सौंपा है, जिसे वे पूरी ईमानदारी और निष्ठा के साथ करते हुए छत्तीसगढ़ बेसबाल की गतिविधियां आगे बढ़ाने का काम करेंगे। इसकी शुरुअात कर दी गई है, जिसमें जिला स्तरीय, संभाग स्तरीय, राज्य स्तरीय, राष्ट्रीय के बाद अंतरराष्ट्रीय स्तर की तैयारी की जा रही है।

शैलेष पांडेय ने कहा कि प्रदेश में खेल की सुविधा बेहतर नहीं है। क्रिकेट, हाकी, फुटबाल, कबड्डी, बैडमिंटन सहित अन्य कई खेल हैं, जिसमें सुविधा का काफी अभाव है। खेलने के लिए खिलाड़ियों को शहर में ग्राउंड उपलब्ध नहीं हो पाते हैं। दूसरी ओर रेलवे का एक सीमित क्षेत्र हैं, जहां खेल के ग्राउंड बने हैं। किसी भी तरह की प्रतियोगिता को कराने के लिए रेलवे का ग्राउंड किराए में लेना पड़ता है।  सुविधा की कमी के कारण खेलों और खिलाड़ियों को भोगना पड़ता है। उन्होंने कहा कि खेल को आगे बढ़ाने के लिए सरकार, उद्योग और संस्थाओं से अपील  की जाएगी। इसके साथ ही बेसबाल और अन्य खेलों को भी प्रोत्साहन और बढ़ावा मिल सके, इसके लिए खिलाड़ियों को एक मंच दिया जाएगा।बेसबाल के प्रदेश अध्यक्ष शैलेष पाण्डेय ने कहा कि प्रदेश में खेल के विकास के लिए सबसे अधिक आवश्यकता संसाधन की है। इसके लिए आने  वाली पंचवर्षीय योजना बनाकर कार्य तैयार किए जाएंगे। पहले एक वर्षीय योजना के बाद दूसरे चार वर्ष की योजना के लिए कार्य विभाजन कर प्रतियोगिता कराई जाएगी। उन्होंने कहा कि बेसबाल का वातावरण बने, इसके लिए प्रयास होगा। प्रदेश को  राष्ट्रीय प्रतियोगिता कराने की जिम्मेदारी दी गई है, जिसके लिए दुर्ग, राजनांदगांव या बिलासपुर में प्रयास किया जा रहा है।

स्कूल-कालेज को मेम्बरशिप :- प्रदेश अध्यक्ष श्री पाण्डेय ने कहा कि बच्चों को आगे लाने के लिए विशेष रूप से स्कूल और कालेज से शुरुआत की जाएगी। इसके लिए स्कूल और  कालेज को टेम्प्रेरेरी मेम्बरशिप देने के साथ प्रिंसिपल और कुलपति से भी चर्चा होगी, ताकि उनके द्वारा बच्चों को प्रोत्साहित किया जा सके। वहीं बेसबाल के सदस्याें  और पदाधिकारियों के नाम और मोबाइल नम्बर सहित ई-परसन में डाला जाएगा। इस वेबसाइड के जरिए कोई भी खिलाड़ी संपर्क कर सकेंगे। उन्होंने कहा कि आने वाला समय चुनौतीपूर्ण होगा। हमारी कोशिश होगी कि ग्रामीण अंचल से प्रतिभा खोजकर उसे आगे बढ़ा सकें। यह सबके सहयोग से होगा, जिसमें बच्चों को अच्छा प्लेटफार्म दिया जा सकेगा।

error: Content is protected !!