आखिरकार महमंद सरपंच नीरज राय की कुर्सी जाना तय, उच्चन्यायालय ने दिया सुनवाई व फैसले का आदेश

०० सरपंच नीरज राय पर महमंद के शमशान की भूमि बेचने का है आरोप

०० बिल्हा अनुविभागीय अधिकारी के समक्ष हो चूका है जांच की प्रक्रिया महज फैसला आना है बाकि

बिलासपुर| ग्राम पंचायत महमंद-लाल खदान के सरपंच नीरज राय (पिंटू) द्वारा अपने पद का दुरुपयोग कर मरघट की जमीन को बंदरबाट कर बेचे जाने सहित ग्राम पंचायत के विकास कार्यो में गड़बड़ी किये जाने के खिलाफ नागेन्द्र राय सहित महमंद के ग्रामीणों द्वारा शिकायत की गयी थी जिसके बाद हुई जांच में नीरज राय पर लगे सभी आरोप सही पाए गए| शासन की कार्यवाही से बचने व पद को बचाने सरपंच पिंटू राय द्वारा लगातार सुनवाई को लेकर कई तरह के तिकडम किये गए मगर लाख तिकडमो के बावजूद सरपंच पिंटू राय अपना पद बचने में कामयाब नहीं हो पाया है| उच्चन्यायालय ने महमंद सरपंच की सुनवाई व अंतिम फैसला अनुविभागीय अधिकारी बिल्हा द्वारा किये जाने का आदेश दिया है|

गौरतलब है कि महमंद-लाल खदान सरपंच नीरज राय (पिंटू) द्वारा शमशान की भूमि पर अवैध कब्ज़ा का विक्रय किये जाने की शिकायत नागेन्द्र राय सहित महमंद के ग्रामीणों ने बिलासपुर एसडीएम से किया था| शिकायत के आधार पर बिलासपुर एसडीएम ने इस मामले की जांच करायी जिसमे ग्रामीणों द्वारा सरपंच नीरज राय पर लगाये आरोप सही पाए गए, मामले की सुनवाई एसडीएम बिलासपुर के समक्ष हो रही थी जिसमे गवाहों के बयान भी दर्ज किये जा चुके थे मगर इसी दौरान सरपंच नीरज राय द्वारा ग्राम पंचायत महमंद बिल्हा तहसील के अंतर्गत आने का हवाला देकर इस मामले की जांच व सुनवाई बिल्हा एसडीएम से कराने की अपील की गयी जिसके बाद नए सिरे से इस मामले की सुनवाई बिल्हा एसडीएम केसमक्ष कराया गया| महमंद-लाल खदान सरपंच नीरज राय (पिंटू) द्वारा शमशान की भूमि पर अवैध कब्ज़ा का विक्रय किये जाने के ममाले में बिल्हा एसडीएम द्वारा जांच-पड़ताल की गयी एवं सभी आरोप सही पाए गए जिसके बाद महमंद के ग्रामीणों की गवाही भी लिए गए| पुनः सरपंच नीरज राय (पिंटू) द्वारा इस मामले को लेकर उच्च न्यायालय में याचिका दायर कर मामले की सुनवाई बिलासपुर में किये  जाने का हवाला दिया गया जिस पर शिकायतकर्ता नागेद्र राय ने आपति दर्ज कराया साथ ही इस मामले में लगातार सरपंच नीरज राय (पिंटू) द्वारा तिकड़म किये जाने व मामले की सुनवाई नहीं होने देने का आरोप लगाया जिसके बाद उच्च न्यायालय ने सरपंच नीरज राय (पिंटू) की याचिका रद्द कर बिल्हा अनुविभागीय अधिकारी के द्वारा सुनवाई व अंतिम फैसला लिए जाने का आदेश दिया है|

error: Content is protected !!