भारत 2020 में होगा सबसे बड़ा यूथ हब: संबित पात्रा 

०० राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा ने युवा नीति पर युवाओ को किया संबोधित

रायपुर। 2020 में भारत सबसे बड़ा यूथ हब होगा। 70 प्रतिशत औसत आयु 29 से 35 के बीच होगी। तरूणाई से लबालब देश होगा। शनिवार को ये बातें भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा ने कही। वे शनिवार की शाम राजधानी रायपुर के मेडिकल कॉलेज हॉल में युवाओं को संबोधित कर रहे थे। युवाओं की नीति देने पर जोर देते हुए उन्होंने कहा कि, जहां ऊर्जा पुंज है, उसको बस मार्ग चाहिए, दिशा निर्देश चाहिए। सही नीति व मार्गदर्शन कल्याणकारी होता है वरन वह विध्वंसकारी भी बन सकता है।
श्री पात्रा ने कहा कि, दो प्रकार की नीति होती है। एक स्वयं की तैयार की हुई और दूसरी शासन की तैयार की हुई। स्वनीति अपने आप निर्धारण करें, आपने स्वयं सोच लिया सही मार्ग में चलूंगा तो सब कुछ संभव है। स्वयं करना होगा निर्धारण कि, मैं क्या करना चाहता हूं। सौभाग्य की बात तो यह है कि हमारे देश के प्रधानमंत्री भी ऊर्जावान और युवा भी ऊर्जावान हैं। उन्होंने खुदीराम बोस को याद कर कहा कि महज 18 वर्ष 8 माह का बालक 11 अगस्त 1908 को मां भारती के चरणों में अपने आपकों समर्पित कर दिया। हंसते-हंसते फांसी पर चढ़ गए। भगत सिंह हंसते-हंसते मां भारती के चरणों में समर्पित हो गए। भगत सिंह ने फांसी चढऩे से पूर्व एक चिट्ठी लिखी। चिट्ठी में माता-पिता से प्रेम की बात नहीं लिखी और न ही लिखा था कि मैं उससे प्रेम करता हूं, लिखा था कि फांसी के कुछ दिन ही शेष रह गए हैं यदि चिट्ठी में लिखी बातें किताबे पढऩे को मिल जाएँ तो अच्छा होगा। 
कम्फर्ट से हटकर सोचना होगा : संबित ने कहा कि,कम्फर्ट से हटकर सोचना होगा। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह भी एक डॉक्टर हैं। यदि उन्होंने लीग से हटकर नहीं सोचा होता तो डॉक्टर ही रहते, मुख्यमंत्री कभी नहीं बनते। कष्ट सहकर बढऩा होगा। उन्होंने कहा कि, बीज में कितनी भी क्षमता और शक्ति है यदि उसे सिंचाई, पानी, खाद, मिट्टी नहीं मिलेगी तो वह सबल वृक्ष नहीं बन सकता, ठीक उसी तरह युवा को भी मिट्टी, खाद, सिंचाई, पानी रूपी नीति का आवश्यकता है। भारत के लिए गौरव का विषय है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जैसे व्यक्ति के हाथों देश की कमान है। उनको समर्थन करें, उनके सपनों को समझें। कैसे वे भारत को आगे बढ़ाने और विश्वगुरू बनाने के लिए कार्य कर रहे हैं। आपके लिए लड़ाई लड़ रहे हैं। हर समय खिलकर रहने वाला व्यक्ति भारत का प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी है।
ऐसा युवा प्रधानमंत्री मोदी ही : डॉ. रमन ने कहा कि, 3 साल में 1 दिन भी विश्राम न करने वाला, 16-16 घंटे कार्य करने वाला, मेहनत, मेहनत भी कार्ययोजना के साथ, ऐसौ युवा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के अलावा कोई हो नहीं सकता। आज 11 करोड़ सदस्य भाजपा के हैं। 987 सांसद और 1300 से ज्यादा विधायक हैं, ये केवल और केवल संगठन के कारण ही है। वहीं छत्तीसगढ़ निर्माण का श्रेय पूर्व प्रधानमंत्री अटलबिहारी वाजपयी को जाता है। भारतीय जनता पार्टी युवा मोर्चा नि सब का भी अध्ययन करें। कैसे छत्तीसगढ़ का निर्माण हुआ। सरकार ने अब तक क्या कार्य किए। विभागवार प्रत्येक योजना की जानकारी रखें। कैसे 16 जिले से आज 27 जिले हुए। डॉ. रमन ने कहा कि छत्तीसगढ़ में स्कूल, कॉलेजों की संख्या बढ़ी है। मेडिकल कॉलेज 3 से 10 हुए। हिन्दूस्तान के सारे बेस्ट इंस्टीट्यूट छत्तीसगढ़ में है। नक्सल प्रभावित बस्तर संभाग के युवा आईआईटी, आईएम, यूपीएसी,आईएस और आईपीएस के क्षेत्र में कदम रख रहे हैं। वित्तीय प्रबंधन के नाम पर देश में पहला राज्य छत्तीसगढ़ है। 8 हजार करोड़ से बजट बढ़कर 80 हजार करोड़ के पार पहुंच गया है। सभी कगा अध्ययन करें।
युवा नीति पुस्तिका का विमोचन : इस अवसर पर भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता और मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने युवा नीति के लिए तैयार पुस्तिका का विमोचन किया। कार्यक्रम में नीति के निर्धारण के लिए बेहतर सुझाव देने वाले युवाओं को प्रसंशा पत्र देकर सम्मानित किया गया। कार्यक्रम में भारतीय जनता पार्टी के मंत्री, विधायक, पदाधिरी, भारतीय युवा मोर्चा कते सदस्य और युवा बड़ी संख्या में उपस्थित थे।

युवा ही करेंगे छत्तीसगढ़ का नेतृत्व : रमन
मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा कि, युवा ही आने वाले समय में छत्तीसगढ़ का नेतृत्व करेंगे। डॉ. रमन या कोई अन्य कितने दिनों तक नेतृत्व संभालेंगे। छत्तीसगढ़ सरकार के 5 हजार दिन पूरे हो गए ये बड़ी उपलब्धि नहीं है, उपलब्धि तो यह है कि युवा मोर्चा ने जोश और जुनुन से साथ दिया है। और अब सरकार की नीाति बनने से पहले ही भारतीय जनता युवा मोर्चा ने अथक प्रयास और दृदृढ़निश्चय से 1 साल पूरे 27 जिलों का दौरा कर युवाओं का प्रस्ताव सरकार को सौंपा है, मैं बहुत उत्साहित हूं। देश का पहला राज्य और ऐसा पहली बार हो रहा होगा। ये अच्छी बात है। अब युवा मोर्चा को सरकार की योजनाओं का अध्ययन करने की आवश्यकता है। अध्ययन के बगैर कुछ नहीं। यदि अच्छा प्रवक्ता बनना है तो अध्ययन चाहिए। डिबेट का आयोजन होना चाहिए। ब्लाक से लेकर जिला स्तर तक संवाद होना चाहिए कि, कैसा हो 2022 का छत्तीसगढ़। यह 1 साल चुनौती भरा होगा। हमने कांग्रेस की सरकार दिल्ली में रहने के बाद भी छत्तीसगढ़ में लगातार तीन बार सरकार बनाई। अब चौथी बार भी सरकार बनने से कोई रोक नहीं सकता, बस शर्त यह है कि हमारी तैयारी कैसी है।
 

error: Content is protected !!