मोदी सरकार चुने हुये जनप्रतिनिधियों के साथ कर रहीं बर्बर व्यवहार:पी.एल पुनिया

रायपुर| छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी द्वारा जनहित के मुद्दो पर बहस टालने के लिये छत्तीसगढ़ की रमन सरकार द्वारा विधानसभा सत्र का समय पूर्व सत्रावसान करने के एक तरफा फैसले की शिकायत और राष्ट्रपति से मिलकर इस मामले में हस्तक्षेप की अपील करने सांसद एवं प्रभारी महासचिव पी.एल पुनिया, पीसीसी अध्यक्ष भूपेश बघेल, नेता प्रतिपक्ष टी.एस सिंहदेव के नेतृत्व में कांग्रेस पार्टी के सांसदगण, विधायकगण, जिलाअध्यक्षगण एवं कांग्रेस पदाधिकारीगण राष्ट्रपति भवन की ओर रवाना हुये जहां पुलिस द्वारा बर्बरता पूर्वक गिरफ्तार कर लिया गया।
प्रभारी महासचिव पी.एल पुनिया ने कहा कि केन्द्र सरकार चुने हुये जनप्रतिनिधीयों के साथ बर्बरता पूर्वक व्यवहार कर रहीं है और पुलिस जनप्रनिधियों के साथ अपराधियों जैसा व्यवहार कर रही है। हमारे द्वारा 7 दिन पूर्व राष्ट्रपति से मिलने हेतु पत्र प्रेषित किया गया था, जिसका की कोई भी जवाब राष्ट्रपति भवन से जानकारी स्वरूप प्राप्त नहीं हुई। हमें अपनी आवाज राष्ट्रपति महोदय के सामने रखने से रोका जा रहा है लोकतंत्र के आवाज को दबाने का प्रयास किया जा रहा है यह निंदनीय कृत्य है थाने में बिना व्यवस्था के जनप्रतिनिधियों को रखा गया। हम सरकार के नीतियों के आगे झुकने वाले नहीं है यह आंदोलन जारी रहेगा।प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष भूपेश बघेल ने कहा कि रमन सरकार पनामा लीक कांड को दबाने के लिये समय पूर्व विधानसभा का सत्रावसान कर दिया जबकि इसमें बीजेपी सांसद एवं मुख्यमंत्री के पुत्र अभिषेक सिंह का नाम है जहां एक ओर इसी पनामा लीक कांड में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री को अपनी कुर्सी गवानी पड़ती है वहीं दूसरी ओर बीजेपी के सांसद अभिषेक सिंह के उपर केन्द्र एवं राज्य की सरकार मेहरबान है जबकि उनका भी इस्तीफा एवं कानूनी कार्यवाही नियमानुसार होनी चाहिये। रमन सरकार वर्षाकालीन विधानसभा सत्र में चर्चा से भाग रहीं थी और सत्रावसान समय से पूर्व कर दिया। कांग्रेस पार्टी पूरी ताकत से इस लड़ाई को आगे भी लड़ेगी।
नेता प्रतिपक्ष टी.एस सिंहदेव ने कहा कि राज्य सरकार विपक्ष को बिना विश्वास में लिये विधानसभा सत्र की समाप्ति कर दी गयी यह फैसला एकतरफा था जिसकी जानकारी नियमानुसार राज्यपाल को भी नहीं दी गयी थी। रमन सरकार के मुखिया उनके मंत्रीयो के उपर भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप है जिस पर विधानसभा में चर्चा होनी थी अचानक सत्रावसान कर विपक्ष की आवाज को दबाने का प्रयास किया गया। यह रमन सरकार का फैसला अलोकतांत्रिक है।
छत्तीसगढ़ राज्य के भ्रष्ट भाजपा सरकार के असंवैधानिक कृत्यों एवं भ्रष्ट्राचार के खिलाफ सख्त कार्यवाही की मांग को लेकर ज्ञापन देने आज दोपहर 1 बजे राष्ट्रपति भवन के लिए कांग्रेस नेतागण पैदल कूच किये। पैदलमार्च का नेतृत्व राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष गुलाबनबी आजाद, लोकसभा में विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खडगे, अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के कोषाध्यक्ष एवं छत्तीसगढ़ के वरिष्ठ नेता मोतीलाल वोरा, पूर्व मुख्यमंत्री एवं राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह, छत्तीसगढ प्रभारी महासचिव एवं सांसद  पी.एल. पुनिया, सचिवद्वय कमलेश्वर पटेल व अरुण उरांव, पीसीसी अध्यक्ष  भूपेश बघेल, नेता प्रतिपक्ष टी.एस सिंहदेव, पूर्व केन्द्रीय मंत्री डाॅ. चरणदास मंहत, पूर्व अध्यक्ष एवं विधायक धनेन्द्र साहू, पूर्व नेता प्रतिपक्ष रविन्द्र चैबे, सांसद  ताम्रध्वज साहू, राज्यसभा सांसद छाया वर्मा, विधायक मोतीलाल देवांगन, गुरमुख सिंह होरा, मोहन मरकाम, शंकर ध्रुवा, दीपक बैज, भोलाराम साहू, भैया लाल रजवाडे़, डाॅ. प्रीतम राम सिंह, खेलसाय सिंह, वृहस्पति सिंह, पारस राजवाडे, अमरजीत भगत, श्याम लाल कंवर, जयसिंह अग्रवाल, जनक राम वर्मा, रामदयाल उईके, दिलीप लहरिया, चुन्नीलाल साहू, गिरवर जंघेल, दलेश्वर साहू, सतं नेताम, लाखेश्वर बघेल, प्रभारी महामंत्री गिरीश देवांगन, मीडिया अध्यक्ष ज्ञानेश शर्मा, महामंत्री अटल श्रीवास्तव, पूर्व मंत्री प्रेेेेमसाय सिंह, पूर्व विधायक एवं सेवादल अध्यक्ष चैन सिंह सामले, अम्बिका मरकाम, कुलदीप जुनेजा, लेखराम साहू, हर्षद मेहता, सचिव विजय बघेल, अजय साहू, जिलाअध्यक्ष विकास उपाध्याय, नारायण दास कुर्रे, विजय पाण्डेय, नरेश ठाकुर, अर्जुन तिवारी, नीता लोधी, बाबूलाल साहू, आलोक चंद्राकर, राजेन्द्र शुक्ला, सुशील शर्मा, प्रवक्ता आंनद मिश्रा, किसान कांग्रेस अध्यक्ष चंद्रशेखर शुक्ला, घनाराम साहू, तुलसी साहू, बैजनाथ चंद्राकर, टाटा महाराज, सुनील चन्नावर, इंटक राष्ट्रीय महासचिव सन्नी अग्रवाल, युवा कांग्रेस अमित शर्मा, सुनील कुकरेजा,शारिक रईस खान, सद्दाम सोलंकी, ब्लाक अध्यक्ष अंकित बागबाहरा, नीतिन ठाकुर, सहित सभी पदाधिकारियों को पुलिस द्वारा गिरफ्तार कर के मंदिर मार्ग थाना लेकर गयी सभी कांग्रेसी नेताओं को दिल्ली पुलिस द्वारा बर्बाता पूर्वक व्यवहार करते हुये गिरिफ्तार किया और हल्का बल का प्रयोग भी किया जिसमें प्रभारी महामंत्री गिरीश देवांगन चैटिल हुये उनके नाक से रक्त श्राव हुआ। कांग्रेस के सभी नेता मंदिर मार्ग थाना परिसर के अंदर धरने में बैठ गये।

 

error: Content is protected !!