एक ही नाम से तीन स्कूलों का संचालन, शिक्षा के नाम पर हो रहा है लूट

०० ज्ञान ज्योति उच्चतर माध्यमिक शाला में नहीं है मुलभुत सुविधाए फिर भी की जा रही मोटी फीस की वसूली

०० स्कूल भवन में नहीं है सुरक्षा के इंतजाम, छात्र-छात्राए फिर भी पढ़ने है मजबूर  

संजय बंजारे

कोटा| कोटा विकासखण्ड के अंर्तगत ग्राम पंचायत करगीकला खपराखोल व मटसगरा में एक ही नाम ज्ञान ज्योति उच्चतर माध्यमिक शाला से तीन स्कूल संचालित हो रहे है। पिछले कई वर्षो से संचालित इन स्कूलों में पढ रहे बच्चों के लिए मुलभुत सुविधाओं का अभाव है साथ ही स्कूल भवन में पर्याप्त सुविधाए नहीं होने के बावजूद प्रबधन द्वारा छात्र-छात्राओ से मोटी फीस की वसूली की जा रही है| शिक्षा का स्तर भी इन स्कूल में नहीं होने की वजह से यहाँ अध्यनरत छात्र-छात्राओ का भविष्य अन्धकार की गर्त में समाता जा रहा है।

एक ओर जहा छत्तीसगढ सरकार शिक्षा के स्तर सुधारने कई बडी योजनाए संचालित कर रही है साथ ही डां.ए.पी.जे. अब्दुल कलाम शिक्षा गुणवत्ता अभियान भी चला रही है लेकिन कोटा ब्लाक के ग्रामीण अंचलों में कई अवैध प्राईवेट स्कूल भी संचालित हो रहे है। कोटा क्षेत्र में मानो लगता है कि प्राईवेट स्कूलों की बाढ सी आ गई है। बच्चों के भविष्य से खिलवाड करते एैसे कई स्कूल संचालक मील जाऐंगें वही शासन शिक्षा का गुणवत्ता सुधारने एडी चोटी का जोर लगा रही है लेकीन शिक्षा विभाग के अधिकारियों व कर्मचारीयों के अनदेखी से इस तरह के कई स्कूल फलफूल रहे है। ज्ञान ज्योति उच्चतर माध्यमिक शाला स्कूल कक्षा नर्सरी से कक्षा 12वी तक संचालित हो रहा है। इन स्कूल में बच्चों की किताबे वितरण करने व पुस्तके अन्य स्थान से मंगा कर लाने के नाम पर बतौर भाडा का नाम देते हुए बीस-बीस रूपये प्रति छात्रों से वसुली की जा रही है। इन स्कूलों बच्चों कि सुविधा केवल नाम मात्र के लिए है। स्कूल में ना तो बच्चों के बैठने की व्यवस्था है ना ही बाउड्री वाल, खेल के मैदान, प्रयोग षाला, षौचालय, पीने का पानी, पंखे की व्यवस्था नही है यहा तक की स्कूल में ना तो दरवाजे है ना ही खिडकी। एैसी अवस्था में भी बच्चे पढने को मजबूर है।बच्चो को लाने ले जाने वेन की व्यवस्था तो कि गई है पर वहा भी इंधन के नाम पर एलपीजी गैस का इस्तेमाल वाहन चलाने के लिए किया जा रहा है जिससे बडी दुघर्टना घटने की आषंका नित बनी रहती है। ग्राम पंचायत के पंच व भाजपा मंडल अध्यक्ष ने इस स्कूल की शिकायत ब्लाक शिक्षा अधिकारी सहित जिला शिक्षा अधिकारी तक कर चुके है शिकायत होने के बद भी अब तक स्कूल व स्कूल संचालक पर किसी भी प्रकार की कोई कार्यवाही नही हुई है।बहरहाल अब देखना यह है कि एैसे में इस स्कूल में पढ रहे बच्चों के भविष्य के साथ खिलवाड कर रहे स्कूल संचालकों पर कब तक कार्यवाही होगी या फिर इसी तरह मासूम बच्चों के भविष्य के साथ स्कूल संचालक व शिक्षा विभाग के अधिकारी इनके भविष्य के साथ खेलते रहेंगें।

error: Content is protected !!