ग्राम गुरूवाईनडबरी एवं कोदवाबानी में विधिक साक्षरता शिविर आयोजित

मुंगेली- जिला विधिक सेवा प्राधिकरण मुंगेली द्वारा ग्राम कोदवाबानी एवं गुरूवाईनडबरी में विधिक साक्षरता शिविर आयोजित किया गया। शिविर के मुख्य अतिथि अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश शैलेष कुमार केतारप ने निःशुल्क विधिक सहायता के संबंध में बताया कि इसमें ऐसे व्यक्ति लाभ ले सकते है जिसकी आमदनी सालाना एक लाख से कम हो। अनुसूचित जाति अनुसूचित जनजाति का सदस्य हो। महिला बच्चे प्राकृतिक आपदास से पीड़ित ऐसे लोगों की गरीब न्याय पाने में आड़े नहीं आ सकती है। निःशुल्क विधिक सहायता हेतु सादे कागज में जिला विधिक सेवा प्राधिकरण को आवेदन देना होता है। उसके बाद एडीजे सुनील कुमार जायसवाल ने अपने सारगर्भित भाषण में मोटरयान अधिनियम के संबंध में विस्तार से जानकारी दी। उन्होने मुख्य रूप से कहा कि यदि किसी व्यक्ति का सड़क दुर्घटना में मृत्यु हो जाती है या घायल हो जाता है तो उसे 15 रूपया का टिकट लगाकर सादे कागज में आवेदन दे सकता है एफआईआर रिपोर्ट की कापी लगाकर इसमें वकील की आवश्यकता नहीं है। तत्पश्चात कार्यक्रम का संचालन कर रहे ग्राम विकास मंडली के अध्यक्ष श्री एसएम शमीम ने पति पत्नी विवाद के संबंध में जानकारी दी एवं कहा कि बहुत से मामलों में यह देखने में आता है कि कुछ महिलाएं दहेज प्रथा में धारा 498 ए का गलत इस्तेमाल कर रही है। उसके बाद सुश्री मृणालिनी काटुलकर ने अपने सारगर्भित भाषण में घरेलू हिंसा, धारा 125 बाल विवाह आदि कानूनों के बारे में विस्तार से जानकारी दी।

error: Content is protected !!