राज्य का वित्तीय प्रबंधन बेहतर: डॉ. रमन सिंह

०० भारतीय रिजर्व बैंक की ताजा रिपोर्ट,सामाजिक क्षेत्र की योजनाओं में खर्च के मामले में छत्तीसगढ़ पूरे देश में प्रथम

रायपुर| मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा है कि सामाजिक क्षेत्र की योजनाओं में आम जनता की बेहतरी के लिए अपने बजट की राशि खर्च करने के मामले में छत्तीसगढ़ पूरे देश में पहले स्थान पर है। डॉ. सिंह ने आज यहां बताया कि सामाजिक क्षेत्र पर बजट में जी.एस.डी.पी. के अनुपात में प्रावधान के मामले में सभी अन्य राज्यों का औसत 7.9 प्रतिशत है, जबकि छत्तीसगढ़ सरकार ने सर्वाधिक 15.8 प्रतिशत का प्रावधान किया है। उन्होंने बताया कि

भारतीय रिजर्व बैंक (आर.बी.आई.) की ताजा रिपोर्ट 2017 के अनुसार छत्तीसगढ़ का वित्तीय प्रबंधन बेहतर है। उन्होंने यह भी बताया कि राज्य का ऋण भार जी.एस.डी.पी. का 14.6 प्रतिशत है, जो सभी राज्यों के औसत 23.2 प्रतिशत से काफी कम है और देश में न्यूनतम है। ऋणों के ब्याज भुगतान पर छत्तीसगढ़ में राजस्व व्यय का 4.6 प्रतिशत (चार दशमलव छह प्रतिशत) व्यय दर्ज किया गया है, जबकि देश के अन्य सभी राज्यों का औसत 11.4 प्रतिशत है। छत्तीसगढ़ इस मामले में भी देश में सर्वश्रेष्ठ है। मुख्यमंत्री ने यह भी बताया कि बेहतर वित्तीय प्रबंधन के फलस्वरूप राज्य पर ऋण भार और ब्याज भार कम है। इस वजह से विकास कार्यों के लिए राज्य में पर्याप्त राशि है। जी.एस.डी.पी. के अनुपात में बजट में 22.7 प्रतिशत राशि विकास मूलक कार्यों के लिए  प्रावधानित कर छत्तीसगढ़ ने देश के गैर-विशेष श्रेणी के राज्यों में प्रथम स्थान हासिल किया है। यह प्रावधान देश के अन्य सभी राज्यों के औसत 12.8 प्रतिशत का लगभग दोगुना है। मुख्यमंत्री ने यह भी बताया कि छत्तीसगढ़ देश के उन गिने-चुने राज्यों में शामिल है, जिनकी ऋण सीमा जी.एस.डी.पी. के तीन प्रतिशत की सामान्य सीमा के स्थान पर 3.5 प्रतिशत निर्धारित हो सकती है।

 

 

error: Content is protected !!