अखिल भारतीय आनन्दम धाम समिती में जुड़कर करे समाज सेवा,राष्ट्र सेवा : त्रिलोक श्रीवास

बिलासपुर| परम पूज्य प्रातः स्मरणीय क्रांतिकारी,प्रतापी,राष्ट्र संत श्री रीतेश्वर जी महाराज,श्रीधाम वृन्दावन,राज्य अतिथि छत्तीसगढ़ से आलोकित अखिल भारतीय आनन्दम धाम समिती के छत्तीसगढ इकाई के तत्वाधान में जिला बिलासपुर शहर एवम ग्रामीण इकाई के पुनर्गठन हेतु एक महती बैठक आज जाजोदिया धर्म शाला, राघवेंद्र राव सभा भवन के सामने बिलासपुर में आहूत किया गया है,इस बैठक में संगठन के प्रदेश प्रमुख श्री त्रिलोक श्रीवास ने प्रदेश सहित जिले के सभी गणमान्य नागरिको को अपील करते हुए अखिल भारतीय आनन्दम धाम समिती में जुड़कर समाज सेवा,राष्ट्र सेवा करने के प्रेरित किया |

अखिल भारतीय आनन्दम धाम समिती के प्रदेश प्रमुख त्रिलोक श्रीवास ने बताया कि आनंदम धाम समिति एक राष्ट्र क्रांतिकारी, दिव्य, प्रखर,प्रतापी राष्ट्रीय संत श्री रितेश्वर जी महाराज श्री धाम वृन्दावन की संस्था है जो धार्मिक एवं सामाजिक कार्यो को लेकर आमजनता के हित में कार्य करती है| उन्होंने बताया कि महाराज श्री ब्रह्मचारी संत है,साधु संत की कोई जात नही होती परंतु आप ब्राह्मण है| रितेश्वर जी महाराज रसिया से एम.एस.सी गोल्ड मेडेलिष्ट है जिन्होंने करोडो की संपत्ति त्याग कर सन्यास ग्रहण किये है,आप कभी चढ़ावा नही लेते है, ज्ञान इतना की आपको वेद पुराण ,शास्त्र ,भागवत, कृष्ण कथायें आँख बंद कर कहते है इनका कभी शुल्क नही लेते है। रितेश्वर जी महाराज भा.ज.पा एवम देश के गृह मंत्री श्री राजनाथ सिंह  जी ,सुषमा स्वराज जी,अनन्त कुमार,सम्राट ठाकुर,पुर्व राज्यपाल उर्वशी सिंग,एवम काँग्रेस के पुर्व केंद्रीय मंत्री सुबोध सहाय,झारखंड के मंत्री राजेंद्र सिंग,हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंग जी के भी गुरु है।छ.ग के समान्य व्यक्ति से केंद्रीय मंत्री विष्णु देव साय ,छ.ग मुख्यमंत्री धर्मपत्नी श्रीमती वीणा सिंग,सांसद कमला पाट्ले,सांसद अभिषेक सिंग,मंत्री बृजमोहन अग्रवाल जी,मंत्री भईया लाल राजवाडे,मंत्री रमसीला साहु,संसदीय सचिव चम्पा देवी पावले,अम्बेश जान्गडे जी,कई मंत्री आपके शिष्य है।काँग्रेस के नेता एवम छत्तीसगढ़ विधानसभा के नेता प्रतिपक्ष त्रिभुवनेश्वर शरण सिंहदेव सरगुजा एवम पुर्व गृह मंत्री मान.श्री चरण दास महंत जी पर रितेश्वर जी महाराज की विशेष कृपा है। रितेश्वर जी महाराज के पूरे प्रदेश मे आपके 1दर्जन से ज्यादा आश्रम है एवं हिंदुस्तान के 17 राज्य मे अनगिनत तादाद मे आपके शिष्य है| त्रिलोक श्रीवास ने कहा कि जो भी भाई बहन इस संस्था से जुड़कर समाज सेवा,राष्ट्र सेवा करने के इक्छुक है वे सादर आमंत्रित हैं,समिति में किसी भी प्रकार के जाति, संप्रदाय, धर्म का बंधन नहीं है| इस अवसर पर ए.के.सिंह, एस.के.बरेठ, नवल किशोर शर्मा, अजय गुप्ता, संजय सिंह बलिया वाले,  अर्जुन सिंह,स्मिता केशरवानी,  अमित दुबे एवं समस्त प्रदेश कार्यकारिणी के सदस्य सहित आमजनता उपस्थित रहे|

error: Content is protected !!