Saturday, August 24, 2019
Home > अपराध > जुआ खेलने छापे नकली नोट, पुलिस के शिकंजे में आया आरोपी

जुआ खेलने छापे नकली नोट, पुलिस के शिकंजे में आया आरोपी

रायपुर। राजधानी में जुआ खेलने के लिए एक एसटीडी पीसीओ चलाने वाले युवक ने घर में ही कलर प्रिंटर से 2 हजार रुपए वाले नकली नोट छाप लिए। पहली खेप में उसने सवा लाख रुपए छापे। इसमें से वह 13 नोट (26 हजार रुपए) लेकर जुए की फड़ में बैठा और पूरी रकम हार गया। जिसने जुआ जीता, उसने घर जाकर नोटों की गिनती की।कुछ नोटों के कागज मोटे निकले तो उसे शक हुआ। उसने एक-दो लोगों से इसका जिक्र किया और बात किसी तरह क्राइम ब्रांच तक पहुंच गई। क्राइम ब्रांच ने एक प्वाइंटर को उसके पीसीओ भेजा।युवक ने प्वाइंटर को भी 2 हजार रुपए वाला नकली नोट थमा दिया। इसकी जांच करवाने के बाद पुलिस ने युवक की दुकान और घर पर एक साथ छापा मारा। घर से 1 लाख रुपए के नकली नोट मिल गए। वह कलर प्रिंटर भी बरामद कर लिया गया, जिसका उसने नोट छापने में इस्तेमाल किया था।
एसपी क्राइम अजातशत्रु बहादुर सिंह ने बताया कि पकड़ा गया युवक श्याम नगर का मनोज विश्वकर्मा है। वह वहीं पर पूनम एसटीडी पीसीओ और वीडियो गेम सेंटर चलाता है। पहले उसकी फोटोकॉपी की दुकान थी। उसे बंद करने के मनोज ने यह काम शुरू कर दिया।जुए की लत की वजह से वह हजारों रुपए के कर्ज में डूब गया था। इसीलिए दिवाली करीब आई तो उसने नकली नोट छापकर जुआ खेलने की योजना बनाई, ताकि कर्ज छूट सके। चूंकि वह पहले फोटोकॉपी शॉप चलाता था, इसलिए उसे इस काम का नॉलेज भी था। इसीलिए उसने कलर प्रिंटर खरीद लिया और योजना पर अमल शुरू किया। नकली नोट छापने के बाद इन्हें लेकर मनोज धनतेरस में जुआ खेलने गया। हार ने उसका पीछा नहीं छोड़ा। नकली नोटों से भी वह 10 हजार रुपए हार गया। इसके बाद दिवाली के दिन वह फिर नोट लेकर गया। उस रात वह 16 हजार रुपए हार गया।जिस व्यक्ति ने उससे सबसे ज्यादा पैसे जीते, उसने घर जाकर पैसे गिने, तब शक हुआ। वरना पुलिस अफसरों का भी कहना है कि 2 हजार के नोट बिलकुल असली नजर आ रहे हैं। पुलिस को आशंका है कि आरोपी ने नकली नोट से त्योहार में खरीदारी की है। आरोपी को हिरासत में लिया गया है। उससे पूछताछ की जा रही है। उसे गिरफ्तार करने से पहले पुलिस को यह भी पता चल गया था कि इस बार उसने दिवाली में जमकर खरीदारी की है, जबकि उसका एसटीडी पीसीओ और वीडियो गेम पार्लर, दोनों में दिन-दिनभर ग्राहक नजर नहीं आते थे। पुलिस उसके दोस्तों को भी पूछताछ के लिए तलब करने वाली है, जो उसके यहां आते हैं।