Friday, February 28, 2020
Home > featured > शिक्षा से कैरियर निर्माण के बहुत सारे रास्ते खुलते है : मुख्यमंत्री बघेल

शिक्षा से कैरियर निर्माण के बहुत सारे रास्ते खुलते है : मुख्यमंत्री बघेल

०० नई टेक्नोलाजी का उपयोग कार्यक्षमता बढ़ाने में होनी चाहिए
०० मुंगेली जिले के नागरिकों और विद्यार्थियों ने भी तन्मयता से सुना ‘‘परीक्षा प्रबंधन और युवा कैरियर के आयामविषय पर आयोजित लोकवाणी में मुख्यमंत्री की बात

रायपुर/मुंगेली| मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने बच्चों का हौसला बढ़ाते हुए कहा है कि शिक्षा से कैरियर निर्माण के बहुत सारे रास्ते खुल जाते है। अभी जो समय आपके हाथ में है उसका पूरा सदुपयोग करें। इस समय खाना पीना सादा रखें, हल्का व्यायाम करें, मोबाइल, टीवी आदि से दूर रहें। मुख्यमंत्री श्री बघेल आज ‘परीक्षा प्रबंधन और युवा कैरियर के आयाम‘ विषय पर आयोजित अपनी मासिक रेडियोवार्ता लोकवाणी की सातवी कड़ी के प्रसारण में यह सारगर्भित बात कहीं। मुख्यमंत्री की मासिक रेडियोवार्ता लोकवाणी के सारगर्भित प्रसारण को जिला मुख्यालय स्थित अनुसूचित जाति बालक छात्रावास के सभाकक्ष में आदिवासी बालक छात्रावास, नवीन अनुसूचित जाति बालक छात्रावास, पोस्ट मैट्रिक अनुसूचित जाति बालक छात्रावास और अनुसूचित जाति बालक छात्रावास के विद्यार्थियों के साथ-साथ मुंगेली अनुभाग के अनुविभागीय अधिकारी राजस्व श्री चित्रकांत चार्ली ठाकुर, आदिवासी विकास विभाग के सहायक आयुक्त सुश्री शिल्पा साय, छात्रावास अधीक्षक श्री एचडी डहरिया एवं छात्रावास के  कर्मचारियों ने तन्मयता से सुना। इसके अलावा जिले के विभिन्न ग्राम पंचायतों, नगरीय निकायों के नागरिकों ने भी मुख्यमंत्री की मासिक रेडियोवार्ता लोकवाणी को उत्सुकता से सुना। कलेक्टर डॉ. सर्वेश्वर नरेंद्र भुरे के निर्देश पर मुख्यमंत्री की मासिक रेडियोवार्ता लोकवाणी को सुनने के लिए व्यापक व्यवस्था की गई थी।
मुख्यमंत्री श्री बघेल ने अपनी मासिक रेडियोवार्ता लोकवाणी में सभी छात्र-छात्राओं को आगामी परीक्षा के लिए अपनी शुभकामनाएं देते हुए कहा कि जो रखते है उड़ने का शौक, उन्हें नहीं होता गिरने का खौफ। यदि सही समय पर सही योजना बनाकर काम करेंगे तो कोई भी आपको लक्ष्य तक पहुंचने से रोक नहीं सकता। इस अवसर पर उन्होने बच्चों का हौसला बढ़ाते हुए परीक्षा के समय होने वाले डर और तनाव से निपटने के उपायों के संबंध में विस्तारपूर्वक जानकारी दी। मुख्यमंत्री ने पालकों से परीक्षा के समय बच्चों को आत्मीयता और सहयोग प्रदान करने और बच्चों को अनावश्यक तनाव से बचाने की भी बात कही। इस अवसर पर प्रदेश के विभिन्न शहरों, गांवों के बच्चों से पूछे गये अनेक सवालों का सिलसिलेवार जवाब दिया और बच्चों का हौसला अफजाई की। मुख्यमंत्री ने कहा कि अगर कोई बच्चा पढ़ाई में बहुत अच्छा नहीं है और वह अच्छा काम करना चाहता है, नाम कमाना चाहता है तथा कुछ अलग कैरियर बनाना चाहता है तो उसके सवालों का जवाब युवा महोत्सव जैसे आयोजनों से मिलता है। मुख्यमंत्री ने अपनी मासिक रेडियोवार्ता लोकवाणी में कहा कि युवा शक्ति को रचनात्मक और सकारात्मक दिशा देने के लिए हर गांव में ‘‘राजीव युवा मितान क्लब’’ गठन किया गया है। ‘‘राजीव युवा मितान क्लब’’ को 10 हजार रूपए महिने की सहायता दी जाएगी। इससे विभिन्न विधाओं के जानकार भी इस क्लब से जुड़ेंगे। इससे हमारी माटी को और अधिक सम्मान मिलेगा। मुख्यमंत्री ने मोबाइल और सोशल मीडिया का जिक्र करते हुए कहा कि जब हम अपनी सुविधा के लिए नई टेक्नोलाजी का उपयोग करते है तो इससे हमारी कार्यक्षमता बढ़ती है। लेकिन यदि इस सुविधा का ज्यादा उपयोग सिर्फ मनोरंजन में होने लगता है और इससे समय खराब होता है तो दृढ़ निश्चय करके इसके उपयोग पर अंकुश लगाना चाहिए। यदि जरूरी हो तो ही मोबाइल, इंटरनेट आदि का उपयोग करें अथवा बिल्कुल नहीं करें। मुख्यमंत्री ने अपनी लोकवाणी के प्रसारण में रोजगार के अवसरों का जिक्र करते हुए कहा कि राज्य में बेरोजगार बड़ी तेजी से घटी है इसका मतलब रोजगार के अवसर तेजी से बढ़े है बड़े पैमाने पर स्थायी नौकरी के अवसर बनाए गए है। जिसके कारण स्कूल, कॉलेजों में ही लगभग 20 हजार पदों पर भर्ती की प्रक्रिया चल रही है। सिर्फ शिक्षा ही नहीं बल्कि सारे विभागों में ऐसे हजारों अवसर दिये जा रहे है। उन्होने अनुसूचित क्षेत्र के युवाओं से कहा कि बस्तर, सरगुजा और बिलासपुर संभाग में तो न सिर्फ जिला संवर्ग में भर्ती की समय सीमा बढ़ाई, बल्कि तीनों संभागों के लिए अलग-अलग कनिष्ठ सेवा चयन बोर्ड बनाये गये है, ताकि हर वर्ग के लोगों को उनकी योग्यता के अनुसार नौकरी मिलें। उन्होने प्रदेश में पहली बार गठित खेल प्राधिकरण और लोक कला परिषद का भी जिक्र किया।