Friday, February 28, 2020
Home > featured > रचनात्मक और सृजनात्मक प्रवृत्तियों से बनेगा प्रगतिशील समाज : डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम

रचनात्मक और सृजनात्मक प्रवृत्तियों से बनेगा प्रगतिशील समाज : डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम

०० स्कूल शिक्षा मंत्री ने इनोवेशन हैंडबुक का किया विमोचन

रायपुर| स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम ने कहा है कि शिक्षा के क्षेत्र में रचनात्मक और सृजनात्मक प्रवृत्तियों का विकास करने के लिए शिक्षकों को मंच प्रदान करना सराहनीय पहल है। डॉ. टेकाम पंडित दीनदयाल उपाध्याय सभागार में शिक्षा में गुणवत्ता बढ़ाने और बिना किसी लागत के नवाचार को प्रोत्साहित करने के लिए आयोजित कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। इस कार्यक्रम का आयोजन श्री अरबिंदो सोसायटी और एचडीएफसी बैंक द्वारा किया गया था। इस अवसर पर स्कूल शिक्षा मंत्री ने छत्तीसगढ़ में इनोवेशन हैंडबुक नामक नवीन शिक्षा विचारों कीे मैनुअल का विमोचन किया और इस पुस्तिका में योगदान देने वाले शिक्षकों को सम्मानित भी किया।


कार्यक्रम में स्कूल शिक्षा मंत्री ने शिक्षकों, शिक्षाविदों और नागरिकों को संबोधित करते हुए कहा कि एक सशक्त और प्रगतिशील समाज के निर्माण में शिक्षकों की महत्वपूर्ण भूमिका हैं। हमें उनके प्रयासों को स्वीकार करने के साथ ही उन्हंे लगातार समर्थन और बढ़ावा देना चाहिए। ऐसे प्रयासो से न केवल हम अपने समाज को आगे बढ़ाते है, बल्कि भावी पीढ़ी को भी सशक्त और प्रगतिशील बनाने की दिशा में कार्य करते हैं। उन्होनें इस आयोजन के लिए श्री अरबिंदो सोसायटी और एचडीएफसी बैंक की सराहना की। इनोवेशन हैंडबुक में शिक्षकों को शिक्षा की गुणवत्ता बढ़ाने के लिए शून्य लागत से आयोजित की जाने वाली रचनात्मक और सृजनात्मक गतिविधियों के साथ ही बच्चों में उच्च प्रभाव डालने वाले विचारों को शामिल किया गया हैं। शिक्षकों को बच्चों के साथ इंटरैक्टिव होने और अनुभवनात्मक शिक्षण को बढ़ावा देने के लिए एक प्रदर्शनी भी आयोजित की गई थी। इस प्रदर्शनी में बिना किसी लागत से शिक्षा में नवाचार तथा अभिनव विचारों पर मुख्य फोकस किया गया था। कार्यक्रम में स्कूल शिक्षा विभाग के प्रमुख सचिव डॉ. आलोक शुक्ला, संचालक राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद श्री पी.दयानंद और बैंक के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे। छत्तीसगढ़ में इनोवेशन हैंडबुक एक नवाचार पुस्तिका है, जिसमें शिक्षकों द्वारा स्वयं पढ़ाये गये नवीन शिक्षण विचारों का संकलन है। यह शून्य लागत, उच्च प्रभाव वाले विचार, एचडीएफसी बैंक के-टीचिंग-द-टीचर(3T) प्रोग्राम का हिस्सा है, जो परिवर्तन के तहत तत्कालिन बैंक के एन-सीआर के अंतर्गत आता हैं। यह कार्यक्रम श्री अरबिंदो सोसायटी के साथ साझेदारी में चलाया जा रहा है। छत्तीसगढ़ में 3T कार्यक्रम के तहत 29 हजार से भी अधिक स्कूलों में एक लाख साठ हजार शिक्षकों को प्रशिक्षित किया गया हैं। इनोवेशन हैंडबुक से राज्य के 17 लाख से अधिक विद्यार्थियों को लाभ मिलेगा। देश में कार्यक्रम के तहत केन्द्र शासित प्रदेशों सहित 26 राज्यों के 17 लाख से अधिक शिक्षकों के विचार आंमत्रित करने और शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार के लिए स्कूल में चयनित विचारों को लागू करने के लिए प्रशिक्षित किया गया हैं। पूरे देश में इस कार्यक्रम के तहत पूर्व में दो लाख से अधिक सरकारी स्कूलों में एक करोड़ आठ लाख से अधिक विद्यार्थियों को लाभांवित किया है।