Thursday, January 23, 2020
Home > featured > कुपोषण और एनीमिया से मुक्ति के लिए मधुर गुड़ योजना शुरू

कुपोषण और एनीमिया से मुक्ति के लिए मधुर गुड़ योजना शुरू

०० मंत्री श्री अमरजीत भगतडॉ. प्रेमसाय सिंह टेकामश्री कवासी लखमा ने किया जगदलपुर में मधुर गुड़ योजना का शुभारंभ

०० बस्तर संभाग के साढ़े छह लाख से अधिक गरीब परिवारों को मिलेगा लाभ

०० गुड़ वितरण पर प्रति वर्ष होगा 50 करोड़ खर्च

रायपुर| मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल की मंशा के अनुरूप प्रदेश में शुरू किए गए सुपोषण अभियान में एक कदम और आगे बढ़ाते हुए मधुर गुड़ योजना’ शुरू की गई है। कुपोषण और एनीमिया मुक्ति में यह योजना काफी कारगर साबित होगा। मुख्यमंत्री श्री बघेल की अध्यक्षता में तीन जुलाई 2019 को हुई मंत्रिमंडल की बैठक में बस्तर संभाग के सातों जिलों में कुपोषण और एनीमिया से मुक्ति के लिए मधुर गुड़ योजना’ शुरू करने का निर्णय लिया गया था। जगदलपुर के मिशन कम्पाउंड ग्राउण्ड में आयोजित समारोह में खाद्य मंत्री श्री अमरजीत भगतआदिम जाति एवं अनुसूचित जाति विकास मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम और आबकारी मंत्री श्री कवासी लखमा ने मधुर गुड़ योजना‘ का शुभारंभ किया। इस योजना से बस्तर संभाग के लाख 59 हजार से अधिक गरीब परिवारों को लाभ मिलेगा। गुड़ वितरण योजना पर प्रति वर्ष 50 करोड़ रूपए खर्च किया जाएगा। इस योजना के तहत प्रत्येक गरीब परिवार को 17 रुपए प्रतिकिलो की दर से किलो गुड़ प्रतिमाह दिया जाएगा।
खाद्य मंत्री श्री भगत ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल के निर्देश पर बस्तर क्षेत्र में गुड़ वितरण योजना कुपोषण मुक्ति के लिए शुरू की गई है। खाद्य मंत्री ने इस अवसर पर मधुर गुड़ तथा मलेरिया मुक्त बस्तर प्रचार रथ को हरी झंडी दिखाकर रवाना भी किया और कहा कि खून की कमी और कुपोषण रोकने के लिए मलेरिया की रोकथाम बहुत जरूरी है। कुपोषण मुक्त और मलेरिया का रोकथाम अभियान छत्तीसगढ़ सरकार की महत्वपूर्ण कदम है।  श्री भगत ने इस अवसर पर हितग्राहियों को मधुर गुड़ और एपीएल उपभोक्ताओं को राशन कार्ड भी वितरित किया। श्री भगत ने समारोह में नवनिर्वाचित महापौर, सभापति सहित सभी पार्षदों को बधाई और शुभकामनाएं दी। बस्तर जिले के प्रभारी मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम ने इस अवसर पर कहा कि महिलाएं और बच्चों में कुपोषण दूर होने से परिवार और समाज मजबूत होगा और इससे मजबूत छत्तीसगढ़ का सपना साकार होगा। उन्होंने कहा कि सुपोषित और स्वस्थ छत्तीसगढ़ की कल्पना को साकार करने के लिए कुपोषित बच्चों के साथ ही किशोरी और गर्भवती महिलाओं को गर्म भोजन और पोषण आहार दिया जा रहा है। मुख्यमंत्री हाट-बाजार क्लिनिक योजना के माध्यम से गांव-गांव में पहुंचकर लोगों का उपचार किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ सरकार सभी क्षेत्रों में विकास के लिए प्रतिबद्ध है। उद्योग मंत्री श्री कवासी लखमा ने कहा कि गरीब परिवारों को न्यूनतम दर पर चावल और गुड़ देने वाला पहला राज्य है। इसके साथ ही कुपोषण दूर करने के लिए स्कूल और आंगनबाड़ियों में बच्चों को अंडा देने का कार्य भी इस सरकार द्वारा किया जा रहा है। कार्यक्रम को सांसद श्री दीपक बैजकोंडागांव विधायक श्री मोहन मरकामजगदलपुर विधायक श्री रेखचंद जैन ने भी संबोधित किया और नवनिर्वाचित पदाधिकारियों को बधाई और शुभकामनाएं दी। नवनिर्वाचित महापौर श्रीमती सफीरा साहू ने स्वागत भाषण में अपनी प्राथमिकताएं बताई। आभार प्रदर्शन सभापति श्रीमती कविता साहू ने किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री के संसदीय सलाहकार श्री राजेश तिवारीविधायक श्री लखेश्वर बघेलश्री चंदन कश्यपश्री राजमन बेंजामपूर्व महापौर श्री जतीन जायसवालखाद्य सचिव डॉ. कमलप्रीत सिंहनगरीय प्रशासन सचिव श्री निरंजन दासकमिश्नर श्री अमृत कुमार खलखोपुलिस महानिरीक्षक श्री पी. सुंदरराजमुख्य वन संरक्षक श्री मोहम्मद शाहिदकलेक्टर डॉ. अय्याज तम्बोली सहित बड़ी संख्या में नागरिक उपस्थित थे।