Thursday, December 12, 2019
Home > featured > जिलों में युवा महोत्सव की धूम, पारंपरिक लोकगीत और लोक नृत्य से बांधा शमां

जिलों में युवा महोत्सव की धूम, पारंपरिक लोकगीत और लोक नृत्य से बांधा शमां

०० कोरबा जिले के युवा महोत्सव विजेताओं को चार लाख रूपए प्रोत्साहन राशि 

रायपुर| खेल एवं युवा कल्याण विभाग द्वारा राज्य के प्रत्येक जिले के युवाओं को सांस्कृतिक गतिविधियों से जोड़ने एवं उनकी प्रतिभाओं को निखारने के उद्देश्य से युवा महोत्सव का आयोजन किया जा रहा है। युवा महोत्सव में 18 विधाओं पर सांस्कृतिक प्रतिभाओं का प्रदर्शन किया जा रहा है। 18 विधाओं के अतिरिक्त इस वर्ष छत्तीसगढ़ी पारम्परिक सुआ नृत्य, पंथी नृत्य, करमा नाचा, सरहुल नाचा, बस्तरियां लोक नृत्य, राउत नाचा, फुगड़ी, भौंरा, गेड़ी दौड़-चाल, रॉक बैण्ड (राज्य स्तर पर) के अलावा छत्तीसगढ़ी संस्कृति को उजागर करने के लिए पारम्परिक वेशभूषा प्रतियोगिता, छत्तीसगढ़ी व्यंजन पर आधारित फूड फेस्टिवल प्रतियोगिता, छत्तीसगढ़ी लोक कला एवं संस्कृति, ऐतिहासिक धरोहर, पारम्परिक एवं आदिवासी शैली से संबंधित विषय पर चित्रकला प्रतियोगिता को शामिल किया गया है।युवा महोत्सव में भाग लेने वालों में 15 से 40वर्ष और 40 से ऊपर आयु वर्ग दो वर्ग रखे गए हैं। युवा महोत्सव का आयोजन ओपन कैटेगरी की प्रतियोगिता पर आधारित है, जिसमें अधिक से अधिक युवाओं की भागीदारी सुनिश्चित की जा रही है। युवा उत्सव का आयोजन विकासखण्ड स्तर पर 15 अक्टूबर से 15 नवम्बर तक किया गया। जिला स्तर पर 15 नवम्बर से 10 दिसम्बर तक कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा है और राज्य स्तर पर 12 से 14 जनवरी 2020 को राजधानी रायपुर में  किया जाएगा।

????????????????????????????????????

प्रदेश के विभिन्न जिलांे में जिला स्तरीय युवा उत्सव का आयोजन किया जा रहा है इन जिलों में कोरबा जिले में 2 दिसम्बर को दो दिवसीय जिला स्तरीय युवा महोत्सव का आयोजन शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय, सिंघिया, विकासखण्ड पोंड़ी उपरोड़ा के प्रांगण में किया गया। प्रतियोगिता मे जिले के पांच विकासखण्ड से 15 से 40 वर्ष और 40 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के प्रतिभागी सम्मिलित हुए। युवा महोत्सव के जिला स्तरीय विजेताओं को चार लाख दो हजार रूपये की प्रोत्साहन राशि देने की घोषणा राजस्व मंत्री श्री जयसिंह अग्रवाल द्वारा एक लाख रूपये, संस्कृति मंत्री श्री अमरजीत भगत द्वारा एक लाख रूपये, सांसद कोरबा श्रीमती ज्योत्सना मंहत द्वारा एक लाख रूपये, विधायक कटघोरा श्री पुरूषोत्तम कंवर द्वारा 51 हजार रूपये एवं विधायक पाली तानाखार श्री मोहित राम केरकेट्टा द्वारा 51 हजार रूपए प्रदाय करने की घोषणा की गई। राज्य शासन के निर्देशानुसार बिलासपुर में गढ़बो नवा छत्तीसगढ़ की थीम पर आधारित दो दिवसीय जिला स्तरीय युवा महोत्सव आयोजन बहतराई स्टेडियम में किया गया। जिसमें पूरे जिले भर से आए हुए युवा उत्साह से भागीदारी किए,युवाओं ने जमकर भौंरा खेला और गेंड़ी चलाई। साथ ही चित्रकला, निबंध, वाद-विवाद और तात्कालिक भाषण जैसे प्रतियोगिताओं मंे अपने प्रतिभा का बढ़-चढ़कर प्रदर्शन किया। धमतरी में जिला स्तरीय युवा उत्सव का समापन एक दिसंबर को कुरूद में किया गया। इस अवसर पर विकासखण्ड के चयनित कलाकारों द्वारा 31 खेल एवं सांस्कृतिक विधाओं का प्रदर्शन किया गया। मुंगेली जिले में युवाओं को विशेष अवसर एवं मंच प्रदान करने, सांस्कृतिक गतिविधियों से युवाओं को जोड़ने एवं उनकी प्रतिभा को निखारने के उद्देश्य से 29 नवम्बर को जिला स्तरीय युवा महोत्सव का आयोजन शहीद वीर धनंजय सिंह स्टेडियम में किया गया। जशपुरनगर जिला स्तरीय युवा महोत्सव का रंगारंग आयोजन शासकीय बालक उच्चतर माध्यमिक विद्यालय प्रांगण में हुआ। जिले के विभिन्न अंचलों से आए युवाओं ने अपनी कलाप्रतिभा का शानदार प्रदर्शन कर शमां बांधा। मादर की थाप पर थिरकते युवा नर्तक दलों के प्रतिभागियों ने पारंम्परिक लोकगीत एवं नृत्य की सराहनीय प्रस्तुति दी। युवा महोत्सव में लगभग 700 युवा कलाकरों ने भाग लेकर नृत्य, गीत एवं अन्य विधाओं की प्रस्तुति दी। जगदलपुर जिले में जिला स्तरीय युवा उत्सव का भव्य एवं रंगारंग आयोजन शासकीय शहीद गुण्डाधुर कृषि महाविद्यालय कुम्हरावण्ड में किया गया है। इस दौरान जिले के सभी सात विकासखण्ड़ों के युवाओं में रंगारंग सांस्कृति कार्यक्रमों के अलावा तात्कालिक भाषण, निबंध, वाद-विवाद, चित्रकला, व्यंजन एवं क्रीड़ा आदि विभिन्न प्रतियोगिताओं में अपनी प्रतिभा का जौहर दिखाया। सांस्कृतिक विधाओं के अन्तर्गत युवक-युवतियों ने उत्कृष्ट प्रस्तुति से जनसमुदाय को भाव विभोर कर दिया। जिले के सभी सात विकासखण्ड़ों से लगभग 800 कलाकारों एवं खिलाड़ियों ने भाग लिया।  सभी जिलों केे मुख्य अतिथियों ने सभी प्रतिभागियों को राज्य स्तरीय युवा महोत्सव मंे स्थान प्राप्त करने शुभकामनाएं दी। अतिथियों ने कहा कि विभाग द्वारा इस तरह के आयोजन से छत्तीसगढ़ के कलाकारों का मनोबल बढ़ता है।