Thursday, December 12, 2019
Home > featured > छत्तीसगढि़या मड़ई कुकरेल में 24 नवंबर को, ‘दु पइडिल सुपोषण बर‘ साइक्लिस्ट करीब से जानेंगे छत्तीसगढ़ी संस्कृति

छत्तीसगढि़या मड़ई कुकरेल में 24 नवंबर को, ‘दु पइडिल सुपोषण बर‘ साइक्लिस्ट करीब से जानेंगे छत्तीसगढ़ी संस्कृति

०० कलेक्टर श्री रजत बंसल ने ज्यादा से ज्यादा लोगों को सपरिवार मड़ई में हिस्सा लेने की अपील की

रायपुर/धमतरी| नगरी विकासखण्ड के ग्राम कुकरेल में आगामी 24 नवंबर को एक दिवसीय छत्तीसगढि़या मड़ई का आयोजन किया जाएगा। सुबह 10 से शाम पांच बजे तक आयोजित इस मड़ई में छत्तीसगढ़ी व्यंजनमिठाईसाग-भाजीबड़ीकांदा-कूसाजेवर-गहनाकृषि उपकरणदैनिक उपयोग के सामान का स्टॉल लगाया जाएगा। साथ ही छत्तीसगढ़ी संस्कृति को प्रदर्शित करते हुए खेलकूद भी आयोजित किए जाएंगे। इसी दिन सुपोषण के लिए लोगों को जागरूक करने के लिए दु पइडिल सुपोषण बर‘ थीम पर गंगरेल बांध से जबर्रा तक 55 किलोमीटर की सायक्लिंग धमतरी एवं आगंतुक युवाओं द्वारा की जाएगी। 
गंगरेल से शुरू होने वाली साइकल एक्सपीडिशन के दौरान नगरी विकासखण्ड के ग्राम कुकरेल में आगंतुकों के लिए पड़ाव नियत किया गया है। यहां पर आयोजित छत्तीसगढ़ी मड़ई में छत्तीसगढ़ी व्यंजनों सहित स्थानीय संस्कृतिपरम्पराखेलकूद इत्यादि को प्रोत्साहित करने और आगंतुकों को इनसे अवगत कराने के लिए स्थानीय पुट पर आधारित स्टॉल में लगाया जाएगा। जहां पर विलुप्तप्राय पान रोटीखपुर्रीचीला रोटीमुठियाफराठेठरीखुरमीगुलगुला भजियाअरसाकुसलीकटुवापपचीतस्मई (खीर)चौसेलाबड़ाभजियाबिडि़या सोंहारी (पूरी)तिल्ली लाड़ूलौंग लताडेढ़ोलीमउहा रोटीमउहा लाटा जैसे ठेठ छत्तीसगढ़ी व्यजंनों का आनंद उठाया जा सकेगा। इसी तरह छत्तीसगढ़ी मिठाई में बताशाकाड़ी मिठाईमसूर पागरखिया पेठखजूरकरी लाड़ूभक्का लाड़ूमुर्रा लाड़ूतिखुर जैसे पारम्परिक व्यंजन भी इसमें शामिल किया गया है। कलेक्टर श्री रजत बंसल ने कुकरेल में आयोजित इस छत्तीसगढि़या मड़ई में ज्यादा से ज्यादा लोगों को सपरिवार पहुंचकर स्थानीय संस्कृति से रू-ब-रू होने की अपील की है।