Friday, December 13, 2019
Home > featured > केन्द्रीय वित्त आयोग के कहने पर पेट्रोलियम पदार्थो की छूट वापस लेनी पड़ी : कांग्रेस

केन्द्रीय वित्त आयोग के कहने पर पेट्रोलियम पदार्थो की छूट वापस लेनी पड़ी : कांग्रेस

०० भाजपा की संवेदनशीलता पेट्रोलियम पदार्थो की कीमत मोदी सरकार द्वारा बढ़ाने पर सोई रहती है?

रायपुर। पेट्रोलियम पदार्थो में वेट में दी गयी छूट वापस लेने पर भाजपा के द्वारा की जा रही स्तरहीन राजनीति की कड़ी निंदा करते हुये प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुये प्रदेश कांग्रेस के महामंत्री एवं संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि केन्द्रीय वित्त आयोग के निर्देशों पर राज्य सरकार ने पेट्रोलियम पदार्थो के दामों पर छूट वापस ली है। भाजपा की संवेदनशीलता पेट्रोलियम पदार्थो की कीमत मोदी सरकार द्वारा केन्द्र की भाजपा सरकार द्वारा बढ़ाने पर क्यों सोई रहती है?
प्रदेश कांग्रेस के महामंत्री एवं संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने पूछा है कि भाजपा बतायें कि क्या मोदी सरकार केंद्रीय एक्ससाइज़ व कस्टमड्यूटी वापिस लेने का साहस दिखाएगी, जिससे पेट्रोल-डीज़ल की कीमतों में 10-15 रुपये की कमी हो। जब केन्द्रीय बजट में मोदी सरकार ने पेट्रोलियम पदार्थों की कीमत में इससे अधिक की वृद्धि की थी तब भाजपा के यह संवेदनशीलता क्यों सोयी पड़ी थी? मोदी सरकार में तो अंतराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल क्रूड आइल के दाम कम होने के बाद पेट्रोलियम पदार्थों के दाम बढ़ाये गये थे। भाजपा सरकार ने पेट्रोल पर एक्साइज़ ड्यूटी 211 प्रतिशत बढ़ाई व डीज़ल पर एक्साइज ड्यूटी 433 प्रतिशत बढ़ाई। मई 2014 से मोदी सरकार ने ’केंद्रीय एक्साइज़ ड्यूटी’ 12 बार बढ़ाई। इसके अलावा ’कस्टमड्यूटी’ बढ़ा कर मोदी सरकार ने जनता से अलग से वसूली की। इस प्रकार पेट्रोल व डीज़ल पर भारी भरकम टैक्स लगा जनता की जेब से 52 महीनों में रु. 11 लाख करोड़ लुटे गए। कांग्रेस की सरकार ने तो मात्र वेट की छूट वापस की है। वह भी केन्द्र सरकार के ही वित्त आयोग के निर्देश पर। वित्तीय मामलों में राज्य सरकार वित्त आयोग के निर्देशों पर काम करती है।