Friday, November 15, 2019
Home > प्रदेश > बिलासपुर > शिक्षा विभाग की उदासीनता के चलते टॉपर बेटी को हो रही एडमिशन मे परेशानी

शिक्षा विभाग की उदासीनता के चलते टॉपर बेटी को हो रही एडमिशन मे परेशानी

बेटी बचाव बेटी पढ़ाओ का नारा सिर्फ जुमलेबाजी

बिलासपुर। बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ का नारा सिर्फ और सिर्फ दिखावा है अपनी सान मे चार चांद लगाने और वोट बैंक बटोरने का एक मात्र उद्देश्य है जिसका उदहारण गौरेला-पेंड्रा ब्लॉक मे कक्षा 10 मे टॉप करने वाली प्राची मौर्या है शिक्षा विभाग की उदासीनता के कारण अब तक रिजल्ट नहीं मिल पाया है पेंड्रा के कुड़कई ग्राम के शासकीय हाई स्कूल में पढ़ने वाली प्राची वर्ष 2018-19 के बोर्ड परीक्षा में कुल 600 अंको मे 554 अंक प्राप्त की है और पूरे गौरेला-पेंड्रा ब्लॉक मे प्राची ने प्रथम स्थान प्राप्त किया है प्राची आगे की पढ़ाई के लिए दूसरे स्कूल में प्रवेश ले रही है लेकिन अब तक 10वी का रिजल्ट नही मिलने के कारण प्राची को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है मामले में हाई स्कूल कुड़कई की प्राचार्य डी टोप्पो का कहना है कि बोर्ड ऑफिस के बाबू अजय सूर्यवंशी द्वारा बार बार रिजल्ट के लिए स्कूल के कर्मचारियों को घुमाया जा रहा है बता दें कि इससे पहले प्राची उत्तर प्रदेश मे पढ़ाई कर रही थी और 9वी के बाद वह कुड़कई के हाई स्कूल में पढ़ाई कर रही थी क्योंकि बाहर से पढ़कर आए विद्यार्थियों को ग्राहिता में हस्ताक्षर की जरूरत पड़ती है और रिजल्ट जारी होने के कई दिनों बाद भी ग्राहिता में हस्ताक्षर नहीं होने के कारण अब तक प्राची को रिजल्ट नहीं मिल पाया है साफ तौर पर जाहिर होता है कि ब्लॉक की टॉपर और मेरिट लिस्ट में आने वाली प्राची का रिजल्ट के लिए इस तरह भटकना शिक्षा विभाग की लापरवाही और उदासीनता को उजागर करता है।