Tuesday, July 23, 2019
Home > featured > मैं ई वी एम हूँ…खेल खेल में जाना मशीनों को, जिला स्तरीय प्रशिक्षक बने वोटिंग मशीन, मशीनों की जानी खासियत

मैं ई वी एम हूँ…खेल खेल में जाना मशीनों को, जिला स्तरीय प्रशिक्षक बने वोटिंग मशीन, मशीनों की जानी खासियत

रायपुर| मैं कण्ट्रोल यूनिट हूँ…मैं एकाकी संचालित मशीन हूँ…मुझे कोई अन्य संसाधनों से नियंत्रित नहीं किया जा सकता …न तो मुझे इन्टरनेट न ही वाई फाई से जोड़ा जा सकता है …..मैं अपने दो साथियों बैलेट यूनिट और वीवीपैट मशीन से जुड़ा हुआ होता हूं। रोचक ही नजारा नजर आया राज्य स्तरीय चुनाव पाठशाला के प्रशिक्षण में जब प्रतिभागी प्रशिक्षक एक दूसरे का हाथ थामे चुनाव में प्रयुक्त कण्ट्रोल यूनिट, बैलेट यूनिट और वीवीपैट मशीन बन कर उनकी विशेषताओं का बखान कर खेल खेल की गतिविधियों के माध्यम से अपनी जानकारी प्रदान की। प्रशिक्षण कक्ष का नजारा खुशनुमा और आन्दमय रहा। 

भाइयांे और बहनों मैं हूँ आपका लोकप्रिय प्रत्याशी सुश्री खरगोश देवी….इस बार के चुनाव में मैं आपके क्षेत्र की प्रत्याशी हूँ …….तो किसी ने कहा ….लकड़ी की काठी, काठी का घोडा……घोड़े के दुम पर मारा हथोड़ा……..साथियों नमस्कार मैं हूँ घोड़ा…..आपके सुखदुख का साथी…. आपके क्षेत्र से चुनाव लड़ रहा हूँ……..३३ खरगोश, घोड़ा, ऊँट, भैंस, कुत्ता शुभँकर चिन्ह आबंटित कर प्रतिभागियों को मॉडल मतदान की प्रक्रिया को अभिनयात्मक गतिविधि में माध्यम से रोचक तरीके से बताया गया। ये गया छ का पासा …. अरे ये चढ़ा सीढी़ ….. देखो आप जहाँ गए वहाँ क्या लिखा हैं, जरा पढ़ के सुनायें …..लो भाई इसको तो साँप ने काटा……… क्यों काटा …. पढो़ जरा ….. मनोरंजनात्मक तरीके से  साप सीढ़ी के खेल के माध्यम से चुनाव की पूरी प्रक्रिया को बताया गया। ज्ञात हो कि साप सीढी़ खेल के जरिये भविष्य के मतदाता, नवीन मतदाता, समुदाय को बताया जाता है न कि वोट देने के लिए आपको किन किन दस्तावेजों की आवश्यकता हैं, मतदान प्रक्रिया में वोट देने के लिए मतदाता पंजीयन प्रक्रिया, पंजीकरण के लिए फॉर्म-6, बिना भय लोभ के वोट देना आदि संदेशांे का समावेश कर खेल के माध्यम से जिला स्तरीय मास्टर ट्रेनर्स को जानकारी प्रदान की गयी।  रोचक खेल की कड़ी में सुरीली कुर्सी दौड़ के जरिये खेल-खेल में ग्रामीण मतदाताओं को चुनावी जागरूकता सम्बन्धी सन्देश देने के लिए इस खेल में दौड़ से बाहर होने वाले खिलाड़ी एक पर्ची उठाकर मतदान से चुक जाने का कारण बताता था, जैसे वोटर आई डी कार्ड का न होना ,मतदाता सूची में नाम न होना, टेंडर वोट की जानकारी आदि का न होना।  कार्यशाला के समापन अवसर पर संयुक्त मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी स्वीप डॉ. के. आर. आर. सिंह ने दो दिवसीय कार्यशाला में शामिल सभी मास्टर ट्रेनर की सक्रिय भूमिका की सराहना की। हालाकि चुनाव समाप्त हो चुके हैं, लेकिन स्वीप की गतिविधि निरंतर संचालित है। इसलिए यह चुनावी साक्षरता क्लब का प्रशिक्षण आयोजित किया गया हैं। चुनावी साक्षरता क्लब एक बीजारोपण है, जो भविष्य के मतदाताओं में चेतना जागृति के लिए आवश्यक है। नवीन मतदाताओं में जागरूकता विकसित करना करना है। जो आगे चलकर एक ऐसा पौधा बने जो मतदान प्रक्रिया में सुधार लायेगा। भारत निर्वाचन आयोग की मंशा है कि चुनावी साक्षरता क्लब एक अभियान का स्वरूप ले और यह तभी संभव जब आप पूरे समर्पण से काम करें। स्टेट लेवल मास्टर ट्रेनर व प्रशिक्षण के सहायक नोडल अधिकारी प्रशांत कुमार पाण्डेय ने समापन सत्र के दौरान प्रतिभागियों को संबोधित करते हुए कहा कि हर प्रशिक्षण का अपना एक अलग ही प्रभाव होता हैं, हर प्रशिक्षण हमें कुछ नए सिखाने का अवसर प्रदान करता है। प्रशिक्षण से न केवल आप बल्कि मुझे भी काफी कुछ सीखने का अवसर मिला हैं। वस्तुतः कार्यशाला का उद्देश्य संभाग व जिला स्तर पर क्रियान्वयन  करने में मास्टर ट्रेनर्स की भूमिका अहम होगी। मास्टर ट्रेनर चुन्नीलाल शर्मा के द्वारा कार्यशाला में उपस्थित प्रतिभागियों से प्रशिक्षण के सम्बन्ध में फीडबैक लिया गया। जिसमे प्रतिभागियों ने प्रशिक्षण को रोचक व् प्रभावी बताते हुए अपने जिलो में इसके बेहतर क्रियान्वयन का विश्वास दिलाया। सफलतापूर्वक आयोजित इस कार्यशाला सह प्रशिक्षण के समापन अवसर पर संयुक्त मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी स्वीप डॉ. के.आर.आर. सिंह व स्टेट लेवल मास्टर ट्रेनर व प्रशिक्षण के सहायक नोडल अधिकारी प्रशांत कुमार पाण्डेय के द्वारा प्रतिभागियों को प्रमाण पत्र दिया गया।