Tuesday, July 23, 2019
Home > featured > छत्तीसगढ़ में होगा 46वीं जवाहर लाल नेहरू राष्ट्रीय विज्ञान, गणित एवं पर्यावरण प्रदर्शनी-2019का आयोजन

छत्तीसगढ़ में होगा 46वीं जवाहर लाल नेहरू राष्ट्रीय विज्ञान, गणित एवं पर्यावरण प्रदर्शनी-2019का आयोजन

००  स्कूल शिक्षा मंत्री की अध्यक्षता में प्रारंभिक बैठक, देशभर से लगभग 200 मॉडल प्रदर्शित किए जाएंगे

रायपुर| बच्चों के लिए 46वीं जवाहर लाल नेहरू राष्ट्रीय विज्ञान, गणित एवं पर्यावरण प्रदर्शनी-2019 का आयोजन छत्तीसगढ़ में किया जाएगा। यह आयोजन अक्टूबर-नवम्बर माह में किया जाना प्रस्तावित है। स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम की अध्यक्षता में आज यहां मंत्रालय (महानदी भवन) में 46वीं जवाहर लाल नेहरू राष्ट्रीय विज्ञान, गणित एवं पर्यावरण प्रदर्शनी-2019 के आयोजन और सुचारू संचालन के संबंध में प्रारंभिक बैठक आयोजित की गयी। बैठक में प्रदर्शनी से संबंधित मुद्दों पर चर्चा की गई।

बैठक में बताया गया कि प्रदर्शनी में देशभर के लगभग 200 मॉडल प्रदर्शन के लिए आएंगे। प्रदर्शनी के मॉडल का विषय ‘जीवन की चुनौतियों के लिए वैज्ञानिक समाधन‘ पर आधारित होगा। उप विषयों में कृषि एवं जैविक खेती, स्वास्थ्य एवं स्वच्छता, संसाधन प्रबंधन, अपशिष्ट प्रबंधन, परिवहन और संचार और गणितीय प्रतिरूपण को भी सूचीबद्ध किया गया है। प्रदर्शनी में देशभर से 400 विद्यार्थी और 200 शिक्षकों की प्रतिभागिता होगी। प्रदर्शनी 5-6 दिन आयोजित की जाएगी। जिसमें बच्चों के मॉडल को स्थानीय विद्यालयों के विद्यार्थी प्रत्येक दिन देखने आएंगे और चर्चा करेंगे। छत्तीसगढ़ राज्य की ओर से प्रदर्शनी में 25 मॉडल का और प्रदर्शन किया जाएगा। प्रदर्शनी के अतिरिक्त प्रतिदिन सम-सामायिक और अन्य विषयों पर ख्यातिलब्ध वैज्ञानिकों का व्याख्यान भी होगा। प्रदर्शनी के अंतिम दिन देशभर से आए प्रतिभागियों को राज्य के प्रमुख स्थलों का भ्रमण भी कराया जाएगा। बैठक में प्रमुख सचिव स्कूल शिक्षा श्री गौरव द्विवेदी, संचालक लोक शिक्षण श्री एस. प्रकाश, संचालक राज्य शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद श्री पी.दयानंद, अतिरिक्त संचालक डॉ. सुनिता जैन, राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद (एन.सी.ई.आर.टी.) में विज्ञान एवं गणित शिक्षा विभाग के अध्यक्ष प्रोफेसर दिनेश कुमार, प्रोफेसर आर.के. पाराशर, डॉ. आशीष कुमार श्रीवास्तव सहित स्कूल शिक्षा विभाग के अधिकारी उपस्थित थे।