Saturday, August 24, 2019
Home > featured > नंदकुमार अपने पुत्र भूपेश की जुबान बोल रहे हैं : भाजपा

नंदकुमार अपने पुत्र भूपेश की जुबान बोल रहे हैं : भाजपा

०० कांग्रेस अंतर्कलह और सत्ता संघर्ष से जूझ रही है
०० कांग्रेस के सत्ता-संघर्ष की पटकथा के नायक हैं भूपेश

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता व पूर्व विधायक श्रीचंद सुन्दरानी ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के पिता नंदकुमार बघेल के आरोपों को कांग्रेस में मचे सत्ता-संघर्ष और अंतर्कलह की पराकाष्ठा बताया है। श्री सुन्दरानी ने कहा कि दरअसल नंदकुमार बघेल ने अपने पुत्र व मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की जुबान बोलकर कांग्रेस के अंदरखाने के सच को जगजाहिर कर दिया है।
प्रवक्ता श्री सुन्दरानी ने कहा कि समाचार चैनलों से चर्चा में मुख्यमंत्री के पिता ने प्रदेश सरकार के एक मंत्री टीएस सिंहदेव पर भाजपा के साथ मिलीभगत का आरोप लगाया है और पूछा है कि सन् 2014 में सात-सात विधायकों के रहते हुए सरगुजा में कांग्रेस क्यों हारी थी? प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष पर नियुक्ति को लेकर चल रही रस्साकशी के मद्देनजर नंदकुमार बघेल ने मंत्री सिंहदेव पर भाजपा के खिलाफ लड़ाई नहीं लड़ने का आरोप लगाया और कहा कि सिंहदेव का यह कहना कि अगर वह (सिंहदेव) मुख्यमंत्री बनाए जाते तो सरगुजा सीट हम जीतते, इस बात का संकेत है कि उनकी भाजपा और पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह से मिलीभगत है। भाजपा प्रवक्ता ने कहा कि कांग्रेस के भीतर मचे सत्ता संघर्ष से भाजपा का कोई संबंध नहीं है और भाजपा का तोड़फोड़ की राजनीति में विश्वास नहीं है। वह जनहित के मुद्दों पर जनता के विश्वास के धरातल पर राजनीति करती है। भाजपा हमेशा जनादेश का सम्मान करती है और वह अपनी भूमिका का निर्वहन कर रही है। लोकसभा चुनावों में कांग्रेस की करारी शिकस्त प्रदेश सरकार की नासमझी और प्रदेश के मतदाताओं के साथ किए गए छलावे का परिणाम है, जिसे अब स्वीकार करने में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल भी आनाकानी कर रहे हैं, जिन्होंने लोकसभा चुनाव के दौरान अपनी सरकार के कामकाज और कार्यप्रणाली पर जनादेश मांगा था। सुन्दरानी ने कहा कि लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को अपनी करारी पराजय बर्दाश्त नहीं हो रही है और अब कांग्रेस सरकार अंतर्कलह और सत्ता-संघर्ष में उलझकर रह गई है। मुख्यमंत्री इस पटकथा के नायक हैं और जो बात वे अपने राजनीतिक प्रतिद्वन्द्वियों के लिए सीधे तौर पर कहने का राजनीतिक खतरा उठाने से कतरा रहे हैं, वे बातें अपने मोहरों से कहला रहे हैं। नंदकुमार बघेल का कथन इसी का द्योतक है।