Sunday, September 22, 2019
Home > featured > मनरेगा विभाग के 52 स्टापडेम निर्माण कार्य भगवान भरोसे

मनरेगा विभाग के 52 स्टापडेम निर्माण कार्य भगवान भरोसे

लगभग 1013.65 लाख की मिली मंजूरी

समतल एवं चट्टानों के बीच बनाए जा रहे हैं स्टापडेम

कोरिया। जिले के जनपद पंचायत खड़गवां में महात्मा गांधी रोजगार गारंटी योजना से मनरेगा विभाग के द्वारा लगभग 52 स्टाफ डेम जिन की अनुमानित लागत 1013.65 लाख खंडगवा ब्लॉक में बनने के लिए आए हुए हैं लेकिन विडंबना यह है कि स्टाप डेम निर्माण कार्य में लापरवाही के चलते आए दिन मनरेगा विभाग सुर्खियां बटोर रहा है स्टाप डेम निर्माण कार्य में लापरवाही के चलते मनरेगा विभाग अपनी सुर्खियां बनाए हुए हैं आए दिन अखबारों में निर्माण में हो रही लापरवाही पढ़ने को मिल रही है लेकिन फिर भी विभाग के कर्मचारी एवं अधिकारियों की नींद नहीं खुल रही है स्टाप डेम निर्माण कार्य के लिये जिस स्थान को चिन्हित किया गया है वह स्थान सही नहीं है वहा पर बारिश का एक बूंद पानी भी नहीं रुकता है कई स्टॉप डेमो में बोल्डर का इस्तेमाल किया जा रहा है तो कहीं मैटेरियल को लेकर सवाल खड़े हो रहे हैं आए दिन स्टॉप डैम की खबर प्रकाशित होने के बावजूद भी अधिकारि एव प्रशासन जाग नहीं रहा है खंडगवा ब्लॉक कम सिंचित क्षेत्र है खडगवा ब्लॉक मै पानी की बहुत ज्यादा समस्या लोगों को होती है वैसे मैं स्टॉप डेम में की जा रही लापरवाही से ग्रामीणों में काफी आक्रोश है स्टाप डेम निर्माण के लिए जिस स्थल को चिन्हित किया गया है वह स्थान या तो चट्टानों के बीच में है या तो समतल है ऐैसे स्थानों पर स्टॉप डेम बनाया जा रहा है गौरतलब करने वाली बात यह है कि वरिष्ठ अधिकारियों के द्वारा एस्टीमेट तैयार करते समय स्थल का चयन करना उचित नहीं समझा गया ऐसा ही मामला ग्रामपंचायत खधौरां का है जहां पर पहले से ही एक स्टाफ डेम बना हुआ है जिसमें एक बूंद पानी भी नहीं रुकता है वहीं से कुछ ही दूरी पर दूसरे स्टाफ बनाना कई सवाल खड़े करता है ग्राम पंचायत सागरपुर में स्टॉप डैम का निर्माण के लिए वन भूमि का चयन किया गया जिस पर वन विभाग के द्वाराआपत्ति लगा दी है ग्राम पंचायत छोटे सालही में मैं भी बनने वाले स्टाफ डेम के लिए जिस स्थान का चयन किया गया है वह चारों समतल है ग्राम पंचायत बरदर में तो चारों तरफ चट्टानी है और उसी के बीच में स्टॉप डेम निर्माण करा दिया जा रहा है

*कमीशन चढ़ाने की चर्चाओं को लेकर बाजार गर्म* महात्मा गांधी रोजगार गारंटी योजना से बनाए जा रहे स्टॉप डेम में कमीशन चढ़ाने की चर्चा स्थानीय ग्रामीणों के बीच में हो रही है मनरेगा योजना से स्वीकृत स्टाफ डेम निर्माण कार्य कराने के लिए ग्राम पंचायत को ऐजंसी बनया जाता है लेकिन ग्राम पंचायत के सरपंच सचिव एवं मनरेगा विभाग के आला अधिकारियों के द्वारा अघोषित ठेकेदारों से मोटी रकम के रूप में कमीशन लेकर अघोषित ठेकेदारों को काम दे दिया जाता है जिससे की ठेकेदार स्टाप डेम निर्माण अपने मनमाने तरीके एवं जेसीबी के इस्तेमाल कर स्टाफ डेम बनाया जाता है मनरेगा विभाग के तकनीकी स्टाफ निर्माण कार्यों की जांच करने फील्ड पर नहीं जाते हैं जिससे का घोषित ठेकेदारों के द्वारा स्टीमेट के नियमों को दरकिनार कर अपने अनुसार ही स्टॉप डैम का निर्माण करवाते हैं।