Tuesday, July 23, 2019
Home > featured > शिवरतन, मुख्यमंत्री को कोसना बंद कर अपनी पार्टी की आंतरिक व्यवस्था सुधारें : कांग्रेस

शिवरतन, मुख्यमंत्री को कोसना बंद कर अपनी पार्टी की आंतरिक व्यवस्था सुधारें : कांग्रेस

०० विरोध और असहमति के नाम पर भाजपाई अभद्रता स्वीकार नहीं

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के खिलाफ अभद्र भाषा का प्रयोग करने वाले भाजपा नेता शिवरतन शर्मा के द्वारा दिये गये बयान मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने अपने अहंकार के कारण उनके खिलाफ एफआईआर कराया है का कांग्रेस ने विरोध किया है। प्रदेश कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता सुशील आनंद शुक्ला ने कहा कि शिवरतन शर्मा का बयान उल्टा चोर कोतवाल को डांटे को चरितार्थ करता है। शिवरतन शर्मा भाजपा के वरिष्ठ विधायक है उनके नाम से भारतीय जनता पार्टी के मीडिया सेंटर से अमर्यादित और शर्मनाक बयान जारी होता है। शिवरतन शर्मा इस बयान के बारे में अनभिज्ञता को प्रगट करते है लेकिन उन्होने उनके नाम से जारी अमर्यादित बयान के तथ्यों पर न तो अपनी सार्वजनिक असहमति जतायी और न ही खेद प्रगट किया। शिवरतन शर्मा भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेताओं में से एक है। वे बतायें कि उनसे बिना पूछे तथाकथ्ति रूप से उनकी बिना सहमति लिये जिन लोगों ने उनके पार्टी के आफिशियल मेल आईडी से बयान जारी करने की धृष्टता की है उनके खिलाफ उन्होने क्या अनुशासन की कार्यवाही करवाई।

प्रदेश कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता सुशील आनंद शुक्ला ने कहा कि भाजपा प्रवक्ता शिवरतन शर्मा के नाम से भाजपा के मीडिया सेंटर से जारी किया गया बयान सभ्य समाज में सर्वथा अस्वीकार्य है। विरोध और असहमति के नाम पर चरित्र हत्या और अर्नल बयानबाजी कभी स्वीकार नहीं की जा सकती भारतीय जनता पार्टी के मीडिया सेंटर द्वारा प्रवक्ता शिवरतन शर्मा के बयान के अलावा अन्य बयानों में भी लगातार भाषायी मर्यादा का उल्लंघन किया जाता है। प्रदेश के प्रमुख विपक्षी दल के मीडिया सेंटर में इतनी अराजकता है कि नेताओं से उनकी स्वीकृति और सहमति के बिना उनके नाम से अशिष्ट बयानबाजी किये जाते है तो यह भारतीय जनता पार्टी की अपनी विफलता है। कांग्रेस पार्टी ने तो भारतीय जनता पार्टी की इस अशिष्टता के खिलाफ कानून का रास्ता अपनाया है तो इसमें भी भाजपा को पीड़ा हो रही है। शिवरतन शर्मा और भाजपा नेता को ऐसा लगता है कि इस मामले में उनकी कोई भूमिका नहीं है तो वे इस सारे घटनाक्रम के जवाबदार लोगों पर कार्यवाहीं करें। अपने दल के आंतरिक अराजकता और षड़यंत्रों के लिये कांग्रेस पार्टी और मुख्यमंत्री को कोसना बंद करें।