मोदी सरकार ने रसोई गैस के दाम 150 रु.वृद्धि कर जनता से किया है विश्वासघात : कांग्रेस

०० कांग्रेस ने मोदी सरकार से गैस सिलेंडर के दाम में की गई वृद्धि को वापस लेने की मांग की

०० महंगाई की मार झेल रही जनता की जेब पर करंट लगा है, आम जनता के घरेलू किचन बजट पर गहरा असर होगा

०० कर मुक्त भारत, अच्छे दिनों का नारा जुमला साबित हुआ

रायपुर। देश मे महंगाई की मार झेल रही जनता पर मोदी सरकार ने गैस सिलेंडर पर पिछले एक वर्ष में 200 रु. की बढ़ोत्तरी की है जिससे आम जनता के घरेलू किचन बजट पर गहरा असर होगा।  
छत्तीसगढ प्रदेश कांग्रेस कमेटी प्रवक्ता घनश्याम राजू तिवारी ने केंद्र की मोदी सरकार पर तीखा हमला करते हुए कहा कि, कर मुक्त भारत, अच्छे दिनों का नारा जुमला साबित हुआ। मोदी सरकार ने रसोई गैस के दाम 150 रू. वृद्धि कर जनता से विश्वासघात किया है महंगाई की मार झेल रही जनता की जेब पर करंट लगा है, पिछले छह वर्षो की तुलना में अब तक प्रत्येक गैस सिलेंडर के दाम पर 220 रु. की बढ़ोत्तरी की गयी है।
कांग्रेस प्रवक्ता घनश्याम राजू तिवारी ने कहा कि, केंद्र में बैठी मोदी सरकार जुमलेबाजी, झूठे वादे कर जनता को महंगाई की दुहाई देकर 2014-2019 में सत्ता हासिल की है और अब अपने बड़े उद्योगघराने की दोस्ती निभाते हुए उनका कर्जा माफ कर देश की जनता पर आर्थिक बोझ डालने का काम कर रही है, जो जनता के साथ सरासर विश्वासघात है। तिवारी ने कहा कि, पिछले छह वर्षो में नोटबंदी, जीएसटी के नाकामियों के बाद आर्थिक नीतियों में लगातार फेल रही। केंद्र की मोदी सरकार अपनी नाकामियों का हर्जाना देश की जनता पर थोप उनकी घरेलू मुश्किले बढ़ाना चाहती है। गिरता जीडीपी, घटता रूपया इसका प्रमुख प्रमाण है, पेट्रोल, गैस सिलेंडर, खाद्य फल-सब्जी दाल-चांवल, तेल, गेंहू आटा, मनोरंजन जैसी अनेक रोजमर्रा की चीजें हैं जिस पर बेतहाशा वृद्धि की गयी है। महंगाई खुदरा दर 1.97 प्रतिशत से बढ़कर 7.59 प्रतिशत तक पहुच चुका है, वही खाद्य मुद्रास्फीति की हालत जनवरी 2020 में 13.63 प्रतिशत रही। उपभोक्तता खाद्य मूल्य सूचकांक में गिरावट दर्ज की गयी है, 2019 में खाद्य सूचकांक 14.19 फीसदी था जो 2020 में घटकर 13.63 फीसदी रह गया है, वही दूसरी ओर 2019 में 2.24 की गिरावट दर्ज की गयी थी, यह आंकड़े केंद्र की मोदी सरकार की नाकामियों की सच्चाइयों को बयाँ करती है। तिवारी ने कांग्रेस पार्टी की ओर से देश हित में गैस सिलेंडर के दाम में गई वृद्धि को वापस लेने की मांग की है।

 

error: Content is protected !!